comScore

स्‍वामित्‍व योजना के तहत संपत्ति कार्ड के वितरण के शुभारंभ पर प्रधानमंत्री के सम्बोधन का मूल पाठ

October 12th, 2020 16:29 IST
स्‍वामित्‍व योजना के तहत संपत्ति कार्ड के वितरण के शुभारंभ पर प्रधानमंत्री के सम्बोधन का मूल पाठ

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री कार्यालय स्‍वामित्‍व योजना के तहत संपत्ति कार्ड के वितरण के शुभारंभ पर प्रधानमंत्री के सम्बोधन का मूल पाठ आज जिन एक लाख लोगों को अपने घरों का स्वामित्व पत्र या प्रॉपर्टी कार्ड मिला है, जिन्होंने अपना कार्ड डाउनलोड किया है, उन्हें मैं बहुत-बहुत बधाई देता हूं। आज जब आप अपने परिवार के साथ बैठोगे, शाम को जब खाना खाते होंगे...तो मुझे पता है‍ कि पहले कभी इतनी खुशी नहीं होती होगी जितनी आज आपको होगी। आप अपने बच्‍चों को गर्व से बता सकोगे कि देखिए अब हम विश्‍वास से कह सकते हैं कि ये आपकी प्रॉपर्टी है, आपको ये विरासत में मिलेगी। हमारे पूर्वजों ने जो दिया था कागज नहीं थे, आज कागज मिलने से हमारी ताकत बढ़ गई। आज की शाम आपके लिए बहुत खुशियों की शाम है, नए-नए सपने बुनने की शाम है और नए-नए सपने के विषय में बच्चो के साथ बातचीत करने की शाम है। इसलिए आज जो अधिकार मिला है मेरी बहुत बधाई है आपको। यह अधिकार एक प्रकार से कानूनी दस्‍तावेज है। आपका घर आपका ही है, आपके घर में आप ही रहेंगे। आपके घर का क्‍या उपयोग करना है, इसका निर्णय आप ही करेंगे । ना सरकार कुछ दखल कर सकती है ना अड़ोस-पड़ोस के लोग। ये योजना हमारे देश के गांवों में ऐतिहासिक परिवर्तन लाने वाली है। हम सभी इसके साक्षी बन रहे हैं। आज इस कार्यक्रम में मंत्रिमंडल के मेरे साथी श्रीमान नरेंद्र सिंह तोमर जी हैं , हरियाणा के मुख्‍यमंत्री श्री मनोहर लाल जी हैं, डिप्‍टी सीएम श्री दुष्‍यंत चौटाला जी हैं, उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी हैं, उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री श्री योगी आदित्‍यनाथ जी हैं, मध्‍यप्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी हैं, विभिन्‍न राज्‍यों के मंत्रीगण भी हैं, स्‍वामित्‍व योजना के अन्‍य लाभार्थी साथी भी आज हमारे बीच मौजूद हैं। और जैसे नरेंद्र सिंह जी बता रहे थे..सवा करोड़ से ज्‍यादा लोग, उन्‍होंने रजिस्‍ट्री करवाई है और इस कार्यक्रम में हमसे जुड़े हैं। यानि आज वर्चुअल इस मीटिंग में गांव के इतने लोगों का जुड़ना, यह स्‍वामित्‍व योजना का कितना आकर्षण है, कितनी ताकत है और कितना महत्‍वपूर्ण है, इसका सबूत है। आत्मनिर्भर भारत अभियान में आज देश ने एक और बड़ा कदम उठा दिया है। स्वामित्व योजना, गांव में रहने वाले हमारे भाई-बहनों को आत्मनिर्भर बनाने में बहुत मदद करने वाली है। आज हरियाणा, कर्नाटक, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के हज़ारों परिवारों को उनके घरों के कानूनी कागज़ सौंपे गए हैं। अगले तीन-चार साल में देश के हर गांव में, हर घर को इस तरह के प्रॉपर्टी कार्ड देने का प्रयास किया जाएगा। और साथियों, मुझे बहुत खुशी है कि आज इतना विराट काम एक ऐसे दिन हो रहा है...ये दिवस बहुत महत्‍वपूर्ण है। आज के दिवस का हिन्‍दुस्‍तान के इतिहास में भी बहुत बड़ा महत्‍व है। और वो है आज देश के दो-दो महान सपूतों की जन्‍म जयंति है। एक भारत रत्‍न लोकनायक जयप्रकाश नारायण और दूसरे भारत रतन नानाजी देशमुख। इन दोनों महापुरुषों का सिर्फ जन्‍मदिन ही एक तारीख को नहीं पड़ता, बल्कि यह दोनों महापुरुष देश में भ्रष्‍टाचार के खिलाफ, देश में ईमानदारी के लिए, देश में गरीबों का, गांव का कल्‍याण हो, इसके लिए दोनों की सोच एक थी...दोनों के आदर्श एक थे...दोनों के प्रयास एक थे। जयप्रकाश बाबू ने जब संपूर्ण क्रांति का आह्वान किया, बिहार की धरती से जो आवाज उठी, जो सपने जयप्रकाश जी ने देखे थे...जिस सपनों की ढाल बन करके नानाजी देशमुख ने काम किया। जब नानाजी ने गांवों के विकास के लिए अपने कार्यों का विस्‍तार किया, तो नानाजी की प्रेरणा जयप्रकाश बाबू रहे। अब देखिए कितना बड़ा अद्भुत सहयोग है गांव और गरीब की आवाज को बुलंद करना, जयप्रकाश बाबू और नानाजी के जीवन का साझा संकल्‍प रहा है। मैंने कहीं पढ़ा था कि जब डॉक्‍टर कलाम, चित्रकूट में नानाजी देशमुख से‍ मिले तो नानाजी ने उन्‍हें बताया‍ कि हमारे यहां आसपास के दर्जनों गांव, मुकदमों से पूरी तरह मुक्‍त हैं यानी कोई कोर्ट-कचहरी नहीं है- किसी के खिलाफ कोई एफआईआर नहीं है। नानाजी कहते थे कि जब गांव के लोग विवादों में फंसे रहेंगे तो न अपना विकास कर पाएंगे और न ही समाज का। मुझे विश्‍वास है, स्‍वामित्‍व योजना भी हमारे गांवों में अनेक विवादों को समाप्‍त करने का बहुत बड़ा माध्‍यम बनेगी। साथियों, पूरे विश्‍व में बड़े-बड़े एक्‍सपर्ट्स इस बात पर जोर देते रहे हैं कि जमीन और घर के मालिकाना हक की देश के विकास में बड़ी भूमिका होती है। जब सं‍पत्ति का रिकॉर्ड होता है, जब संपत्ति पर अधिकार मिलता है तो संपत्ति भी सुरक्षित रहती है।

कमेंट करें
Odl8G