मूर्तियों की उंचाई की सीमा समाप्त : गणेशोत्सव-दहीहंडी पर इस साल नहीं होगी कोई पाबंदी, मंडलों का पंजीकरण शुल्क माफ

July 21st, 2022

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रदेश में इस बार गणेशोत्सव और दही हंडी जैसे त्यौहारों को बिना किसी पाबंदी के मनाया जा सकेगा। राज्य सरकार ने गणेशोत्सव, दहीहंडी और मुहर्रम सहित अन्य आगामी त्यौहारों को मानने के लिए कोई पाबंदी लागू नहीं करने का फैसला किया है। कोरोना महामारी के चलते लागू गणेश मूर्तियों की ऊंचाई की सीमा को भी खत्म कर दिया गया है। गणेशोत्सव मंडलों को सभी मंजूरी एकल खिड़की योजना के जरिए उपलब्ध कराए जाएंगे। गणेशोत्सव मंडलों को अब पंजीयन शुल्क नहीं देना पड़ेगा। गणेशोत्सव मंडलों को गारंटी पत्र देने की शर्त को शिथिल कर दिया गया है। गणेशोत्सव में जुलूस निकालने की अनुमति होगी। गुरुवार को मुख्यमंत्री ने गणेशोत्सव, दहीहंडी सहित आगामी उत्सवों को लेकर कानून व व्यवस्था और विभिन्न व्यवस्थाओं के संबंध में बैठक की। राज्य अतिथिगृह सह्याद्री में हुई बैठक में उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले दो सालों में कोरोना के संकट के कारण त्यौहारों को उत्साह से नहीं मनाया जा सका था। लेकिन इस बार गणेशोत्सव, दही हंडी सहित अन्य त्यौहारों को मनाने के लिए कोई पाबंदी लागू नहीं की जाएगी। नागरिक आगामी सभी त्यौहार उत्साह से मना सकेंगे। 

पीओपी मूर्तियों के लिए समिति 

मुख्यमंत्री ने कहा कि गणेश मूर्ति बनाने के लिए पीओपी के इस्तेमाल के बारे में अध्ययन के लिए एक तकनीकी समिति का गठन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि गणेशोत्सव मंडलों के कार्यकर्ताओं के खिलाफ दर्ज ध्वनि प्रदूषण सहित अन्य मामले को वापस लेने के संबंध में उचित निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने गणेशोत्सव से जुड़े कार्यकर्ताओं के लिए पुरस्कार योजना शुरू करने के लिए नीति तय करने के निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि दहीहंडी उत्सव मनाने के लिए छोटे बच्चों के शामिल होने को लेकर अदालत द्वारा दिए गए आदेश का पालन होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि गणेशोत्सव शुरू होने से पहले राज्य भर में सड़कों के गड्डों को पाटने के निर्देश दिए गए हैं। बैठक में उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सहित सभी वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।