दैनिक भास्कर हिंदी: शहडोल जिला अस्पताल में 360 बच्चों की मौत पर जवाब के लिए मिली मोहलत

July 20th, 2021



डिजिटल डेस्क  जबलपुर। मप्र हाईकोर्ट ने शहडोल जिला अस्पताल में 11 महीने के दौरान 360 बच्चों की मौत पर जवाब पेश करने के लिए राज्य सरकार को एक सप्ताह की मोहलत मिल गई है। चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक और जस्टिस सत्येन्द्र कुमार सिंह की डिवीजन बैंच ने मामले की अगली सुनवाई 29 जुलाई को नियत की है।
यह जनहित याचिका शहडोल के ग्राम जमुडी पोस्ट मलया निवासी दीपक रामाश्रय मिश्रा की ओर से दायर की गई है। याचिका में कहा गया है कि शहडोल जिला अस्पताल में बच्चों के इलाज में लापरवाही बरती जा रही है। इसके कारण पिछले 11 महीने के भीतर अस्पताल में इलाज के दौरान 360 बच्चों की मौत हो चुकी है। 6 दिसंबर 2020 को एक साथ 18 बच्चों की मौत हुई थी। याचिका में कहा गया कि शहडोल मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से 18 अप्रैल 2021 को 28 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद भी शहडोल जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में किसी भी प्रकार की जाँच नहीं की गई। अधिवक्ता अर्जुन सिंह ने तर्क दिया कि इन मामलों की जाँच कराकर दोषियों को दंडित किया जाए। राज्य सरकार की ओर से मामले में जवाब पेश करने के लिए एक सप्ताह का समय दिए जाने का अनुरोध किया गया। डिवीजन बैंच ने जवाब पेश करने के लिए एक सप्ताह की मोहलत देते हुए याचिका की अगली सुनवाई 29 जुलाई को नियत की है।

 

खबरें और भी हैं...