comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

व्हीएफजे में सीरियल चोरियों पर हंगामा -श्रमिक नेताओं ने की नारेबाजी

व्हीएफजे में सीरियल चोरियों पर हंगामा -श्रमिक नेताओं ने की नारेबाजी

डिजिटल डेस्क जबलपुर। व्हीकल फैक्टरी के सेक्टर-टू में पाँच जगहों पर एक साथ चोरी की सीरियल वारदातों ने हड़कम्प मचा दिया। पाँच आवासों का ताला तोडऩे के बाद चोर मार्केट में एक दुकान का ताला तोड़कर सामान चुरा ले गए। इन चोरियों का पता सुबह साढ़े 6 बजे लगा तो कर्मचारियों की भीड़ लग गई। यूनियनों के प्रतिनिधियों को जानकारी मिली तो वे भी वहाँ पहुँच गए। उसके बाद जब इस मामले में सुरक्षा विभाग के मुखिया को सूचना दी गई तो वे घटनास्थल पर भी नहीं पहुँचे। एजीएम वीबी पचनंदा को जानकारी दी गई तो उन्होंने भी सुरक्षा अधिकारी को भेजने की बात कही, लेकिन जब कोई नहीं पहुँचा तो श्रमिक नेताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी। सुरक्षा विभाग की लापरवाही के कारण होने वाली चोरियों को लेकर उन्होंने आक्रोश व्यक्त किया।  जिन घरों में चोरियाँ हुई हैं उनमें संदीप कुमरे, आशीष कुमार, बलवंत सिंह आदि शामिल हैं। उक्त लोग अपने घर त्यौहार मनाने गए थे। कल रात में चोरों ने हाथ की सफाई दिखा दी। चोरों ने दरवाजे फाड़ दिये तथा एक  मकान की दीवार खोद कर भीतर घुस कर चोरी कर ली। 
सूने घर में चोरी
 कोतवाली थाना क्षेत्र स्थित आनंद कॉलोनी के एक सूने मकान का ताला तोड़कर अज्ञात चोरों ने जेवर व नकदी सहित कुल 80 हजार रुपये का सामान चोरी कर लिया। घर का ताला टूटा हुआ देख पड़ोसियों  ने पुलिस को सूचना दी। चोरी की जानकारी लगने पर पहुँचे  रिश्तेदारों का कहना था कि घर वाले अपने बेटे से मिलने के लिए दिल्ली गये हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर अज्ञात आरोपियों की पतासाजी के प्रयास शुरू कर दिए हैं। सूत्रों के अनुसार राजेश जैन ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि उनके जीजा प्रवीण कुमार जैन आनंद कॉलोनी में रहते हैं। वे करीब 2 माह पूर्व परिवार के साथ गुरुग्राम दिल्ली अपने बेटे के पास गये थे और घर में ताला लगा हुआ था। 26 अगस्त को पड़ोसियों ने गृहस्वामी को सूचना दी कि घर का ताला टूटा हुआ है। गृहस्वामी ने अपने साले को बताया कि घर में     सोने की 2 अँगूठियाँ, 2 जोड़ी टाप्स,  चेन, चाँदी की 2 जोड़ी पायल तथा नकदी 20 हजार रुपये रखे थे, जो कि अज्ञात चोर चोरी कर ले गया है। रिपोर्ट पर धारा 457, 380 के तहत मामला दर्ज कर अज्ञात चोरों की पतासाजी के प्रयास शुरू किए गये हैं। 

कमेंट करें
4t7vY
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।