comScore

हवा का रुख बदला तो लाखों टिड्डियों के दलों ने एक दर्जन गाँवों में डाला डेरा

हवा का रुख बदला तो लाखों टिड्डियों के दलों ने एक दर्जन गाँवों में डाला डेरा


डिजिटल डेस्क जबलपुर। टिड्डियों के दल से अधिकारी और किसान हलाकान हो रहे हैं, हर दिन सुबह िटड्डियों के दलों को भगाने की प्रक्रिया शुरू होती है और िफर वे कहीं न कहीं डेरा डाल देते हैं। शनिवार की सुबह कटंगी के पहाड़ पर बैठेके दलों ने दल को भगाने फायर ब्रिगेड ने केमिकल का स्प्रे किया। डीजे बजाकर शोर मचाया गया जिसके बाद  उड़कर बहोरीबंद-कटनी की तरफ चले गये। दोपहर बाद अचानक से मौसम बदला और हवाओं का रुख भी बदल गया जिसके कारण लाखों  की तादाद में टिड्डियों मझौली क्षेत्र के लगभग एक दर्जन गाँवों में पेड़ों में बैठ गये। रविवार की सुबह इन टिड्डियों को भगाने एक बार िफर राजस्व और कृषि विभाग का अमला जुटेगा।
कृषि विभाग के अधिकारियों का कहना है कि कटंगी के पहाड़ पर बैठे टिड्डियों दल कटनी जिले के लिये रवाना हो गये हैं, लेकिन अभी भी लगभग 20 प्रतिशत टिड््डी ऐसे हैं जिन्होंने मझौली क्षेत्र के रौंसरा, तलाड़, पौंड़ा-पौंड़ी, जुझारी, उमरिया, मनसकरा, महगवाँ सहित अन्य गाँवों में खेतों के आसपास पेड़ों पर अपना डेरा डाल रखा है। कृषि विभाग के िडप्टी डायरेक्टर डॉ. एसके िनगम, मझौली तहसीलदार अनूप श्रीवास्तव ने बताया कि रविवार की सुबह से टिड्डियों को भगाने के लिये िफर से केमिकल का छिड़काव किया जायेगा। अधिकारियों का कहना है कि भले ही टिड््डी दल जिले की सीमा में घूम रहे हैं, लेकिन अभी तक अपने यहाँ फसलों को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुँचा है।
तीन तरफ से पहाड़ जिससे परेशानी7  जानकारी के मुताबिक मझौली तहसील में अभी मूँग और उड़द की फसल खेतों में लगी है जिससे किसान परेशान हैं कि कहीं ये टिड््डी उनकी फसलों को नुकसान न पहुँचा दें। अधिकारियों ने बताया कि मझौली क्षेत्र तीन तरफ से पहाड़ों से घिरा है, इसलिये टिड््डी दल उड़ते तो हैं, लेकिन फिर कुछ यहीं ठहर जाते हैं। अनुविभागीय अधिकारी कृषि मनीषा पटेल, वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी मझौली जीपी पटेल ने ग्रामीणों से कहा कि वे घबराए नहीं अपने-अपने खेतों में ही रहें और टिड्डियों को खेतों में लगी फसल तक पहुँचने से रोकने के लिए तेज आवाज और शोर करते रहेें।

कमेंट करें
iPD7f