दैनिक भास्कर हिंदी: चलती ट्रेन में महिला यात्री हैं चोरों के लिए सॉफ्ट टारगेट - 134 आरोपियों को जेल भिजवाया

October 14th, 2019

डिजिटल डेस्क जबलपुर।  चलती ट्रेन में चोरों के लिए महिला यात्री सॉफ्ट टारगेट साबित हुई हैं, जिनके लेडीज पर्स में रखे सोने-चाँदी के जेवरातों के साथ मोबाइल को पार करने की कई वारदातें सामने आई हैं, जिनमें जीआरपी जबलपुर ने 112 प्रकरण दर्ज कर 134 आरोपियों को पकडऩे में सफलता पाई है। इन आरोपियों से 15 लाख रुपए का माल जब्त करने के बाद जेल भिजवा दिया गया है। जीआरपी थाने से मिली जानकारी के अनुसार पिछले एक साल के दौरान ट्रेनों में होने वाले अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए एसआरपी सुनील जैन के निर्देश पर जीआरपी ने ट्रेनों और प्लेटफॉम्र्स पर पेट्रोलिंग बढ़ाई है, जिसकी वजह से जहाँ एक ओर रेल अपराधों में कमी आई है, वहीं रेल अपराध करने वालों के गिरेबां तक जीआरपी के हाथ वारदात करते ही पहुँच गए और उन्हें जेल की हवा खानी पड़ी। इस दौरान जीआरपी की टीम ने पुराने आरोपियों को पकडऩे के लिए भी ब्लूप्रिंट बनाकर सतर्कता से काम करते हुए निगरानी बदमाशों को हवालात तक पहुँचाया है। 
सबसे अधिक दर्ज हुए मोबाइल चोरी के अपराध 
जीआरपी थाना प्रभारी सुनील नेमा ने बताया कि पिछले 10 महीनों में सबसे अधिक अपराध मोबाइल चोरी के सामने आए हैं, जिसमें ट्रेनों में अपराध करने वाले शातिर बदमाशों की निगाहें यात्रियों के मोबाइल पर रहीं। इन वारदातों में यह बात सामने आई है कि चोरों की नजरें महिला यात्रियों पर लगी हुई होती हैं और वो महिला यात्रियों को आसानी से शिकार बना लेते हैं। महिला यात्रियों के लेडीज पर्स में सोने-चाँदी के जेवरात, नकदी और मोबाइल होने की संभावना को देखते हुए चोरी की वारदात करने वाले शातिर बदमाश महिलाओं की निगरानी कर उन्हें आसान शिकार बनाते हैं। हालाँकि चोरों की नीयत पर नजर रखते हुए जीआरपी की टीम ने वर्ष 2019 में सम्पत्ति संबंधी अपराध के 112 प्रकरण दर्ज कर 134 आरोपियों को हिरासत में लेकर उन्हें जेल भेजवा दिया। इन आरोपियों से 15 लाख रुपए का माल बरामद किया गया है। जिलाबदर के 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया, वहीं जिलाबदर का उल्लंघन करने वाले 3 आरोपियों पर कार्रवाई की गई, 67 आदतन आरोपियों को पकड़ा गया। साथ ही 24 बेमियादी वारंटियों को हिरासत में लेने के बाद न्यायालय में पेश किया गया। 
शातिर बदमाशों को दबोचा 
जीआरपी थाना प्रभारी श्री नेमा ने बताया पिछले दस महीनों के अंतराल में रात के अँधेरे में सूनी जगह पर बैठकर ट्रेन में लूटपाट की वारदात करने वाले 9 गिरोहों को योजना बनाते समय ही पकडऩे में जीआरपी टीम को सफलता मिली है। इस अवधि में लूटपाट और चोरी की वारदात की योजना बनाने के 9 प्रकरणों में 27 शातिर बदमाशों को मौके पर ही वारदात में उपयोग किए जाने वाले हथियारों के साथ दबोच लिया गया। इसी के साथ चोरी की सम्पत्ति होने के संदेह के 11 प्रकरणों में 17 लोगों को हिरासत में लिया गया, जिनसे करीब 11 लाख रुपए का चोरी का माल बरामद किया गया है। चुनाव के दौरान 15 लोगों से हवाला की करीब 87 लाख रुपए की रकम पकड़ी गई। 
 

खबरें और भी हैं...