comScore

जन्माष्टमी 2020: इन 5 बातों का रखें ध्यान, मिलेगी श्री कृष्ण की कृपा

जन्माष्टमी 2020: इन 5 बातों का रखें ध्यान, मिलेगी श्री कृष्ण की कृपा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भगवान विष्णु के आठवें अवतार श्रीकृष्ण का जन्मदिन पूरे देशभर में बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। इसे जन्माष्टमी के नाम से जाना जाता है, जो कि भाद्रमास की अष्ठटमी यानी कि रक्षाबंधन के आठवें दिन मनाई जाती है। इस साल यह पर्व 11 और 12 अगस्त दोनों दिन मनाया जा रहा है। हालांकि कहा जा रहा है कि 12 अगस्त को जन्माष्टमी मानना श्रेष्ठ है। 

इस दिन श्रीकृष्ण के भक्त उनकी भक्तिभाव से पूजा-अर्चना कर उनका जन्मोत्सव मनाते हैं। भगवान श्रीकृष्ण के भक्त बड़े ही उत्साह के साथ हर साल इस दिन का इंतजार करते हैं। इस दिन भक्त उपवास भी करते हैं लेकिन कुछ ऐसे काम होते हैं जो इस दिन नहीं करना चाहिए। तो आइए जानते हैं इनके बारे में...

कृष्ण जन्माष्टमी और हरतालिका तीज सहित इस माह में आएंगे ये प्रमुख व्रत और त्यौहार

ये हैं ध्यान रखने योग्य पांच प्रमुख बातें

1. जन्माष्टमी के दिन परनिंदा या लाभ के लिए दूसरों को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए। यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको इसका तीन गुना पाप लगेगा। इसलिए इस दिन परनिंदा करने से बचना चाहिए।
2. शास्त्रों के अनुसार जन्माष्टमी, शिवरात्रि, नवरात्रि आदि दिनों में संयम का पालन करना चाहिए। इन रातों को यौन संबंध और काम भाव पर नियंत्रण रखना चाहिए। खासकर जिन्होंने व्रत रखा हो वे लोग अपने काम भाव पर विशेषकर ध्यान रखें इससे व्रत सफल होता है और पुण्य की प्रप्ति होती है।
3. जन्माष्टमी के दिन वाद-विवाद से बचना चाहिए। इसके लिए मन को शांत रखना अत्यंत आवश्यक है। मन को शान्त रखने के लिए भगवान का ध्यान करें। क्योंकि इससे देवी लक्ष्मी प्रसन्न रहती हैं बता दें कि देवी लक्ष्मी ने द्वापर युग में श्रीकृष्ण की पत्नी रुक्मणी के रूप में जन्म लिया था। इसलिए इस दिन उन्हें प्रसन्न करना भी अनिवार्य है। 

मोर पंख के इन 10 प्रयोगों से आपकी परेशानियां होंगी खत्म

4. जन्माष्टमी के दिन अगर आपने व्रत नहीं भी रखा है और पूजन भी नहीं करने वाले हैं तो भी मांस-मदिरा का सेवन न करें। सात्विक भोजन करने से आपको पुण्य फल की प्राप्ति होगी। 
5. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी साल में एक बार आने वाला त्यौहार है, इसलिए इस दिन को सोने में या किसी और काम में व्यर्थ ना करें। इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान-ध्यान कर श्रीकृष्ण की पूजा करें। इस दिन गीता, विष्णुपुराण, कृष्णलीला आदि का पाठ करना शुभ फलदायी माना गया है।

कमेंट करें
7svSc