comScore

ज्येष्ठ पूर्णिमा 2021: आज बना है ये विशेष संयोग, जानें कैसे लें इसका लाभ और क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त

ज्येष्ठ पूर्णिमा 2021: आज बना है ये विशेष संयोग, जानें कैसे लें इसका लाभ और क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। हिन्दू धर्म में अमावस्या और पूर्णिमा तिथि का अत्यधिक महत्व है। इन दोनों ही ति​थियों को माह के अनुसार अलग अलग रूपों में मनाया जाता है। इस दिन व्रत रखा जाता है और भगवा विष्णु की विधि विधान से पूजा की जाती है। ज्येष्ठ माह को धर्म कर्म की दृष्टि से विशेष माना गया है। इस माह में पूर्णिमा व्रत गुरुवार 24 जून को है। ज्येष्ठ महीने की पूर्णिमा पर पितरों की विशेष पूजा करना चाहिए और ब्राह्मणों को भोजन करवाना चाहिए। इस दिन कई स्थानों पर महिलाएं वट वृक्ष की पूजा भी करती हैं।

वैसे तो अमावस्या और पूर्णिमा पर गंगा स्नान का महत्व बताया गया है। लेकिन कोविड महामारी के चलते इस साल ऐसा करना उचित नहीं है। ऐसे में आप घर पर ही रहकर गंगा या किसी पवित्र नदी के जल को स्नान के पानी में मिलाएं। ऐसा करने से भी आपको पवित्र नदी में नहाने जितना ही फल प्राप्त होगा। आइए जानते हैं इस तिथि का महत्व, मुहूर्त और पूजा विधि...

जून 2021: इस माह में आएंगे ये महत्वपूर्ण व्रत और त्यौहार

महत्व
इस दिन दान-पुण्य करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। पूर्णिमा तिथि को चंद्रमा अपनी पूर्ण कलाओं के साथ होता है, इस दिन चंद्र पूजा और व्रत करने से चंद्रमा मजबूत होता है। जिससे मानसिक और आर्थिक समस्याएं दूर होती हैं। भगवान विष्णु की पूजा करने से दुखों का नाश होता है और सुखों की प्राप्ति होती है। ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा गुरुवार के दिन आने से सुख-समृद्धि की नजर से बहुत शुभ है। ज्योतिषाचार्य के अनुसार, इस शुभ संयोग में जरूरतमंदों को दान जरूर करना चाहिए। 

शुभ मुहूर्त 
तिथि आरंभ: 24 जून गुरुवार, तड़के 03:32 बजे से   
तिथि समापन: 25 जून शुक्रवार, रात 12:09 बजे तक

Jyeshtha Maas: जानें हिन्दू कैलेंडर के तीसरे माह का वैज्ञानिक महत्व

पूजा ​की विधि
ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा पर कई स्थानों पर महिलाएं सावित्री के व्रत की तरह वट पूर्णिमा का व्रत रखती हैं। वे पति की लंबी उम्र की कामना से वट वृक्ष यानी बरगद की पूजा करती हैं। पूजा के दौरान एक बांस की टोकरी मे सात तरह के अनाज रखते जिसे कपड़े के दो टुकड़े से ढ़क देते हैं दूसरी टोकरी में सावित्री की प्रतिमा रखते हैं। इसके बाद वट वृक्ष को जल, अक्षत, कुमकुम से पूजा करती हैं। फिर लाल मौली से वृक्ष के सात बार चक्कर लगाते हुए ध्यान करती हैं। इस पूजन प्रक्रिया के बाद सभी महिलाएं सावित्री की कथा सुनाती है और अपनी क्षमता के अनुसार दान दक्षिणा देते हुए अपने पति की लंबी आयु की कामना करती हैं। 

कमेंट करें
vWrxj
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।