दैनिक भास्कर हिंदी: मोहिनी एकादशी: जानें इस दिन का महत्व और पूजा की विधि

May 23rd, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का अत्यधिक महत्व है। एकादशी को कई रूपों में मनाया जाता है और इस पावन दिन विधि- विधान से भगवान विष्णु की पूजा- अर्चना की जाती है। वैशाख मास में आने वाली एकादशी को मोहिनी एकादशी के रूप में मनाया जाता है। मान्यता के अनुसार मोहिनी एकादशी व्रत के प्रभाव से हर प्रकार के पाप तथा दुःखों का नाश होता है।इस बार पंचांग भेद के कारण दो तिथियों को लेकर असमंजस की स्थिति बन गई है। ऐसे में कई लोगों ने 22 मई को इस व्रत को रखकर पूजा की। वहीं कई लोगों ने आज 23 मई इस व्रत को माना है।

शास्त्रों के अनुसार प्राचीन समय में देवता और दानवों ने मिलकर समुद्र मंथन किया था। इस दौरान मंथन से कई सारी चीजें निकलीं। लेकिन जब अमृत निकला तो इसे पाने के लिए  देवता और दानवों में युद्ध होने लगा। तब भगवान विष्णु ने इसी तिथि पर मोहिनी रूप में अवतार लिया था और अमृत लेकर देवताओं को इसका सेवन करवाया था। इस दिन कैसे करें भगवान विष्णु की पूजा और क्या है मुहूर्त, आइए जानते हैं...

मई 2021: इस माह में आएंगे ये महत्वपूर्ण व्रत और त्यौहार, देखें पूरी लिस्ट

कब रखें मोहिनी एकादशी व्रत
पचांग के अनुसार, इस बार मोहिनी एकादशी 22 मई, सुबह 9.30 बजे शुरू हुई है, जो कि अगले दिन 23 मई को सुबह करीब 6.40 तक रही है। इस तिथि के कारण दो दिन एकादशी व्रत किया जा रहा है। वहीं ज्योतिषाचार्य के अनुसार, एकादशी तिथि सूर्योदय के साथ आने पर मानी जाती है। ऐसे में 23 मई को सूर्योदय की तिथि होने के कारण व्रत रखा जाना चाहिए। उदयव्यापनी तिथि से ही व्रत रखना उत्तम माना गया है।  

महत्व
पौराणिक ​कथाओं के ​अनुसार, माता सीता के विरह से पीड़ित भगवान श्री राम और महाभारत काल में युद्धिष्ठिर ने भी अपने दुखों से छुटकारा पाने के लिउ इस एकादशी का व्रत पूरे विधि विधान से किया था। इसलिए इस एकादशी को बेहद फलदायी और कल्‍याणकारी माना गया है। मान्यता है कि इस एकादशी को व्रत रखने से घर में सुख-समृद्धि और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

इस साल नहीं होगी चार धाम यात्रा, जानें कारण

व्रत और पूजा विधि
इस दिन सूर्यादय से पूर्व उठकर नित्यक्रमादि से निवृत्त होकर स्नान करें। इसके बाद साफ-सूथरे कपड़ें पहनें और व्रत का संकल्प लें। साफ सुथरे कपड़े पहनकर दाहिने हाथ में जल लेकर व्रत करने का संकल्प लें। इसके बाद पूजा स्थान पर एक चौकी रखें उस पर भगवान विष्णु की प्रतिमा या तस्वीर को स्थापित करें। इसके बाद मूर्ति अथवा तस्वीर के सामने दीपक जलाएं। भगवान विष्णु को अक्षत, मौसमी फल, नारियल, मेवे व फूल चढ़ान के साथ ही तुलसी के पत्ते अवश्य रखें। इसके बाद धूप दिखाकर श्री हरि विष्‍णु की आरती उतारें। अब सूर्यदेव को जल अर्पित करें, साथ ही एकादशी की कथा सुनें और सुनाएं।