comScore

पाकिस्तान में देश विरोधी व ईशनिंदा सामग्री के कारण 100 किताबें प्रतिबंधित

July 25th, 2020 09:09 IST
पाकिस्तान में देश विरोधी व ईशनिंदा सामग्री के कारण 100 किताबें प्रतिबंधित

हाईलाइट

  • पाकिस्तान में देश विरोधी व ईशनिंदा सामग्री के कारण 100 किताबें प्रतिबंधित

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के पाठ्यक्रम बोर्ड ने निजी स्कूलों में पढ़ाई जाने वाली कम से कम 100 पुस्तकों पर ईशनिंदा और पाकिस्तान विरोधी सामग्री के कारण तत्काल प्रतिबंध लगा दिया है। बोर्ड की योजना अभी और किताबों पर भी प्रतिबंध लगाने की है। पंजाब करिकुलम एंड टेक्स्टबुक बोर्ड (पीसीटीबी) के प्रबंध निदेशक राज मंजूर हुसैन नासिर ने गुरुवार को यह फैसला लेते हुए कहा कि बोर्ड ने पूरे प्रांत में निजी स्कूलों द्वारा पढ़ाई जा रहीं कम से कम 10,000 किताबों की समीक्षा की है। उन्होंने कहा, पहले चरण में पीसीटीबी ने ऑक्सफोर्ड और कैम्ब्रिज सहित 31 प्रकाशकों की 100 पुस्तकों पर प्रतिबंध लगा दिया है। पीसीटीबी ने इस उद्देश्य के लिए 30 समितियों का गठन किया है।

नासिर ने कहा कि किताबों की आलोचनात्मक समीक्षा से पता चला है कि बच्चों को पाकिस्तान और इसके निर्माण के बारे में, कायद-ए-आजम मुहम्मद अली जिन्ना और अल्लामा मुहम्मद इकबाल के बारे में विकृत तथ्य पढ़ाए जा रहे थे, जबकि कई पुस्तकों में ईशनिंदा सामग्री भी थी। पीसीटीबी द्वारा समीक्षा के खुलासे का एक महत्वपूर्ण हिस्सा यह कि कई पुस्तकों में पाकिस्तान को भारत से हीन दिखाया गया जबकि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को कुछ किताबों के नक्शे में भी भारत के हिस्से के रूप में दिखाया गया था।

नासिर ने कहा, कायद-ए-आजम मुहम्मद अली जिन्ना और अल्लामा मुहम्मद इकबाल की बातों को शामिल करने के बजाय एक किताब में महात्मा गांधी और कुछ अज्ञात लोगों की बातों को दर्ज किया गया था। उन्होंने कहा, गणित की एक किताब में गिनती की अवधारणाओं को सूअर के चित्रों के जरिए बच्चों को समझाया गया था। कैम्ब्रिज की एक पुस्तक में देश में बेरोजगारी के आधार पर छात्रों के बीच अपराध और हिंसा को बढ़ावा देने की कोशिश की गई। उन्होंने कहा कि मामले का तत्काल संज्ञान लेते हुए कम से कम 100 पुस्तकों पर तुरंत प्रतिबंध लगा दिया गया है और प्रकाशकों को इन्हें प्रकाशित करने और बेचने से रोकने का निर्देश दिया गया है।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा प्रांत भर के जिला शिक्षा अधिकारियों को यह निर्देश दिया गया है कि निजी स्कूलों का दौरा (स्कूल फिर से खुलने के बाद) यह देखने के लिए करें कि कहीं प्रतिबंधित पुस्तकें अभी भी तो नहीं पढ़ाई जा रही हैं? उन्होंने कहा कि प्रकाशकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। पंजाब सरकार द्वारा उठाए गए कदम को आने वाले दिनों में देश के अन्य प्रांतों द्वारा लागू किए जाने की संभावना है क्योंकि पाकिस्तान, ऑक्सफोर्ड और कैम्ब्रिज जैसे बड़े नामों के पाठ्यक्रम ढांचे को चुनौती देने के लिए तैयार दिख रहा है। कम से कम 10,000 पुस्तक आलोचनात्मक समीक्षा की प्रक्रिया में हैं जिससे आने वाले दिनों में प्रतिबंधित पुस्तकों की संख्या बहुत अधिक बढ़ने की संभावना है। शिक्षाविदों ने कहा है कि पीसीटीबी के पास किताबों को प्रकाशित करने से पहले ही उनकी समीक्षा का एक तंत्र होना चाहिए।

कमेंट करें
eXplt