फैक्ट चैक: क्या राजस्थान के जयपुर में नमाज के विरोध में हिंदुओं ने सड़क पर हनुमान चालीसा पढ़ी? जानिए वायरल वीडियो का पूरा सच

June 16th, 2022

हाईलाइट

  • हमारी पड़ताल में सामने आया कि, वायरल वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है

डिजिटल डेस्क, भोपाल। इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें एक मेट्रो पुल के नीचे हजारों की तादाद में लोग जमा हुए नजर आ रहे हैं। वायरल वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि ये लोग जयपुर में बीच सड़क पर हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए एकत्रित हुए थे। कुछ लोगों के मुताबिक, उन्होंने ऐसा सड़क पर नमाज पढ़ने वालों का विरोध करने के लिए किया।

पड़ताल – हमने इस वायरल वीडियो के बारे में जानकारी एकत्रित करने के लिए इसके कीफ्रेम्स को रिवर्स सर्च किया है। सर्च करने पर हमे यह वीडियो ‘लब्बाईक न्यूज’ नाम के एक यूट्यूब चैनल पर मिला। यह एक पाकिस्तानी यूट्यूब चैनल है। इस चैनल पर 4 जनवरी 2021 को यह वीडियो शेयर किया गया था। वीडियो के कैप्शन में इसे अल्लामा खादिम हुसैन रिजवी के लिए निकाली जा रही एक रैली बताया गया है। 

दरअसल, रिजवी पाकिस्तानी राजनीतिक दल तहरीक-ए-लब्बैक के फाउंडर थे। रिजवी की मौत 19 नवंबर 2020 को 54 साल की उम्र में हो गई थी। वीडियो में दिख रही भीड़ उनकी की मौत के बाद उनकी याद में लाहौर में निकाली गई थी। 
इसके बाद हमने इस वीडियो के बारे में और सर्च किया तो हमें यह वीडियो 3 जनवरी 2021 के एक ट्वीट में भी मिला। यहां पर भी इस वीडियो में दिख रही भीड़ को रिजवी की याद में निकाली गई रैली बताया गया।

बाघी टीवी नाम की एक पाकिस्तानी न्यूज वेबसाइट में छपे एक आर्टीकल के अनुसार भी इसे रिजवी की याद में निकली रैली बताया गया। 

हमारी पड़ताल में सामने आया कि, वायरल वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। ये वीडियो राजस्थान के जयपुर का नहीं बल्कि पाकिस्तान के लाहौर का है। वीडियो में दिख रही भीड़ हनुमान चालीसा पढ़ने के लिए नहीं बल्कि एक पाकिस्तानी राजनेता की मौत के बाद उनकी याद में निकली गई रैली की है। 

 

खबरें और भी हैं...