दैनिक भास्कर हिंदी: Fake News: बिहार भाजपा प्रत्याशी प्रमोद सिन्हा के घर से 119 करोड़ को सोना मिला, जानें क्या है वायरल दावे का सच

October 20th, 2020

डिजिटल डेस्क। सोशल मीडिया पर बिहार के एक भाजपा प्रत्याशी को लेकर एक मैसेज वायरल हो रहा है। वायरल दावे में कहा जा रहा है कि, बिहार के रक्सौल से भाजपा प्रत्याशी प्रमोद सिन्हा के घर से 119 करोड़ रुपए का सोना जब्त हुआ है।  

किसने किया शेयर?
कई ट्विटर और फेसबुक यूजर ने भी यही दावा किया है। वहीं लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती ने 17 अक्टूबर को सुबह 10:34 बजे ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए भाजपा नेता के घर से 119 करोड़ का सोना जब्त होने का दावा किया था। आरजेडी औरंगाबाद के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके भी यही दावा किया गया। हालांकि, मीसा भारती के अकाउंट से बाद में ट्वीट डिलीट कर दिया गया।

क्या है सच?
भास्कर हिंदी की टीम ने पड़ताल में पाया कि, सोशल मीडिया पर वायरल दावा गलत है। एक वेबसाइट की खबर के अनुसार, भाजपा प्रत्याशी प्रमोद सिन्हा के भाई के घर से 17 अक्टूबर को 23 किलो सोना जब्त हुआ। खबर से पता चलता है कि, जब्त हुए सोने की कीमत 119 करोड़ नहीं बल्कि 11 करोड़ है। यह मामला नेपाल का है। भाजपा उम्मीदवार प्रमोद सिन्हा के एक भाई अशोक सिन्हा पिछले कई सालों से नेपाल के बीरगंज में रह रहे हैं। सिन्हा के इसी ठिकाने पर गुप्त सूचना के तहत नेपाल पुलिस ने छापेमारी की। छापेमारी के दौरान नेपाल पुलिस ने 23 किलो सोना और 2 किलो चांदी बरामद की है।

कई अन्य न्यूज वेबसाइट्स पर भी इस छापेमारी से जुड़ी खबर है। अधिकतर खबरों में जब्त हुए सोने की कीमत 11-12 करोड़ रुपए ही बताई गई है। सोने की कीमत रोजाना घटती-बढ़ती हैं। भारत में 19 अक्टूबर की कीमतों के अनुसार 10 ग्राम सोने का मूल्य 52,690 रुपए है। इस लिहाज से देखें तो जब्त किए गए 23 किलो सोने की कीमत लगभग 12.11 करोड़ रुपए है। इन सभी खबरों से स्पष्ट है कि, बिहार विधानसभा चुनाव के बीच भाजपा प्रत्याशी के भाई के घर से सोना जब्त होने की बात सही है। लेकिन, सोने की कीमत 119 करोड़ नहीं, बल्कि 11-13 करोड़ रुपए है। साथ ही जब्ती की कार्रवाई भारत नहीं, नेपाल में हुई है।

निष्कर्ष: सोशल मीडिया पर वायरल दावा गलत है। बिहार के रक्सौल से भाजपा प्रत्याशी प्रमोद सिन्हा के भाई के घर से सोने की बरामदगी हुई है, लेकिन इसकी कीमत लगभग 12 करोड़ रुपए है, न कि 119 करोड़ रुपए। ये छापेमारी नेपाल के पर्सा जिले के बीरगंज में हुई है। 

खबरें और भी हैं...