दैनिक भास्कर हिंदी: FAKE NEWS: फेसबुक 13 जून से बदलने जा रहा है अपनी प्राइवेसी पॉलिसी, जानें वायरल पोस्ट का सच

June 13th, 2020

डिजिटल डेस्क। पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर फेसबुक से जुड़ा एक पोस्ट वायरल हो रहा है। इस पोस्ट में यह दावा किया जा रहा है कि 13 जून, शनिवार से फेसबुक अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव करने जा रहा है। वायरल पोस्ट में एक मैसेज के साथ यह चेतावनी दी गई है कि अगर यूजर्स इस लिखे हुए मैसेज को कॉपी करके अपनी वॉल पर पोस्ट नहीं करते हैं, तो उन्हें कानूनी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

किसने किया शेयर?
कई फेसबुक यूजर्स ने पोस्ट को शेयर किया है। 

वायरल मैसेज का हिंदी ट्रांसलेशन
कोविड-19 के कन्फ्यूजन के बीच, यह मत भूलो कि कल (यानी शनिवार 13 जून) फेसबुक एक नया नियम शुरू करने जा रहा है। इसके तहत हमारी तस्वीरों का उपयोग किया जा सकता है। उनका इस्तेमाल हमारे खिलाफ मुकदमों में किया जा सकता है। आज कल हम जो भी पोस्ट करते हैं वह सार्वजनिक हो जाता है। यहां तक ​​कि डिलीट किए गए मैसेज भी। इसलिए बाद में पछताने से बेहतर है कि इस मैसेज को अपनी वॉल पर कॉपी-पेस्ट करें।

"मैं फेसबुक को अपनी तस्वीरों, सूचनाओं, संदेशों या पोस्ट का उपयोग करने की अनुमति नहीं देता, न तो अतीत से न ही भविष्य में।" मैं फेसबुक को सूचित करता हूं कि इस प्रोफाइल / या इसके कंटेंट का उपयोग मेरे खिलाफ करने की सख्त मनाही है। इस प्रोफ़ाइल का कंटेंट निजी है और इसमें मेरी गोपनीय जानकारी है। मेरे निजी जीवन के उल्लंघन को कानून द्वारा दंडित किया जा सकता है।

नोट: "फेसबुक" अब एक सार्वजनिक संस्था है। सभी सदस्यों को इस तरह से एक नोट पोस्ट करना चाहिए। यदि आप चाहें, तो आप इस पोस्ट की एक कॉपी अपने पास रख सकते हैं। यदि आप कम से कम एक बार बयान पोस्ट नहीं करते हैं, तो आप चुपचाप अपनी तस्वीरों का उपयोग करने की अनुमति देंगे। "शेयर" नहीं, लेकिन "कॉपी + पेस्ट"।

क्या है सच?
भास्कर हिंदी टीम ने पाया कि, वायरल पोस्ट के साथ किया जा रहा दावा गलत है। सर्च करने पर हमें ऐसी कोई खबर नहीं मिली, जिससे इस बात की पुष्टि होती हो कि फेसबुक अपनी प्राइवेसी पॉलिसी बदलने जा रहा है। फेसबुक की तरफ से जारी किया गया ऐसा कोई बयान भी हमें नहीं मिला है।  मैसेज को ही फेसबुक पर सर्च करने पर यह पता चला कि ये पोस्ट पहले भी कई बार वायरल हो चुकी है। 2012 में फेसबुक ने इसका खंडन भी किया था। फेसबुक के न्यूजरूम सेक्शन में 27 नवंबर, 2012 का बयान है। जिसमें फेसबुक ने इस तरह के वायरल मैसेज को अफवाह बताया है।

फेसबुक ने हेल्प कम्युनिटी नाम का एक सेक्शन भी बनाया है, जहां यूजर्स सवाल पूछ सकते हैं। फेसबुक की टीम इन सवालों के जवाब भी देती है। यहां एक यूजर ने भी इस वायरल मैसेज से जुड़ा सवाल पूछा है। जवाब देते हुए फेसबुक की टीम ने इस मैसेज को स्कैम बताते हुए रिपोर्ट करने की सलाह दी है।

निष्कर्ष
फेसबुक पर वायरल पोस्ट के साथ किया जा रहा दावा गलत है। फेसबुक अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में कोई बदलाव नहीं करने जा रहा है। फेसबुक ने खुद इस पोस्ट को गलत बताया है।

खबरें और भी हैं...