दैनिक भास्कर हिंदी: Fake News: जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने लिखा सोनिया गांधी को पत्र, जाने क्या है सच्चाई ?

November 22nd, 2019

डिजिटल डेस्क। महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर गतिरोध जारी है। इस बीच सोशल मीडिया पर एक पत्र काफी वायरल हो रहा है। यह पत्र जमीयत उलेमा-ए-हिंद के नाम से वायरल हो रहा है। लेटर में लिखा गया है कि कांग्रेस महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिवसेना को समर्थन नहीं देना चाहिए। ऐसा करने से कांग्रेस पार्टी को नुकसान होगा। पत्र के नीचे जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष अरशद मदनी के हस्ताक्षर भी नजर आ रहे हैं। 

क्या है सच ?
भास्कर हिंदी ने अपनी पड़ताल में पाया कि जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने सोनिया गांधी को कोई पत्र नहीं लिखा है। जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने खुद अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जमीयत उलेमा-ए-हिंद का ये लेटर झूठ है। जमीयत ने ऐसा कोई लेटर जारी नहीं किया।

वहीं एबीपी न्यूज ने इस पत्र को सही मानते हुए कवरेज भी किया है। यह साफ है कि वायरल हो रहा पत्र झूठा है। जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को कोई पत्र नहीं लिखा है।