फर्जी खबर: जानें वैक्सीन से हो रही बच्चों की मौत, इस दावे के साथ किए जा रहे वायरल वीडियो क्या है सच

January 21st, 2022

डिजिटल डेस्क, भोपाल।  देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के कारण तीसरी लहर आ चुकी है। इससे बचने के लिए सरकार ने गाइडलाइन जारी की है।  वैज्ञानिकों ने पहले ही साफ कर दिया है कि कोरोना से बचने के लिए वैक्सीनेशन ही सबसे कारगार उपाय है। इस बात पर ध्यान देते हुए देश में वैक्सीनेशन अभियान चलाया जा रहा है। अब तो 15 से 18 साल के आयु वाले लोगों को भी वैक्सीन लगाने का अभियान प्रारंभ हो चुका है। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को कोरोना संक्रमण होने से बचाया जा सके ।

लेकिन इसी बीच एक वीडियो वायरल किया जा रहा है। जिसमे यह बताने की कोशिश की जा रही है, कि 15 से 18 साल के बच्चे जो कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन लगवा रहे हैं, वह बीमार हो रहे हैं। यही नहीं दावा यह भी किया जा रहा है कि, इससे केवल बच्चे बीमार ही नहीं पड़ रहे बल्कि कुछ ही दिनों में उनकी मौत भी हो जा रही है। एक मीनट के इस वीडियो मे एक महिला यह कहते हुए दिख रही है कि वैक्सीन लगाने के तुरंत बाद बच्चे की मौत हुई है तो इसे क्या कहेंगे। फिर वीडियो में यह कहा जा रहा है कि लोगों को पूछना पड़ेगा की मौतें क्यों हो रही है। इनको इसका जबाब देना पड़ेगे।  वीडियो में बच्चों की मौत को प्राकृतिक मौत नहीं बल्कि हत्या बताया जा रहा है। 

क्या है वायरल वीडियो का सच?

यह वायरल वीडियो महाराष्ट्र का है जिसमें एक साथ कई लोग पोस्टर लेकर खड़े है। आपको बता दें कि वीडियो में  साफ तौर से देखा जा सकता है कि खड़े लोगों के पीछे बड़े शब्दों में लिखा हुआ है मुम्बई मराठी पत्रकार संघ। यह वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल किया जा रहा है और लोग इसे सच मानकर वैक्सीन न लगाने की बात कर रहे है।

इस वायरल वीडियो को लेकर भारत सरकार के प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो ने दावा किया है कि यह वीडियो पूरी तरह से झूठा है, और कहा है कि बच्चों को वैक्सीन लगाने के पहले पूरी तरह से ट्रायल किया जाता है। इसलिए किसी भी फर्जी दावों में न पड़े और अपने बच्चों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए वैक्सीन जरूर लगवाएं।