फर्जी खबर: काली मठ मंदिर में पूजा रोकने का यह वीडियो कोलकाता के मुस्लिम समुदाय का नहीं है!

October 26th, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली।  सोशल मीडिया पर एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है, वीडियो में देखा जा सकता है कि मुस्लिम समुदाय के लोग सड़क पर खड़े होकर ‘अल्लाह हु अकबर’ नारे लगा रहे हैं। वीडियो को ट्वीटर पर शेयर करते हुए एक यूजर @Dharm_3317 ने कैपशन में लिखा “कोलकाता में काली मठ मंदिर में पूजा रोकने के लिए चिल्लाते हुए हजारों की तादाद में मलिच्छ कौम (मुस्लिम), यह वही मठ है जहां श्री रामकृष्ण परमहंस जी द्वारा की जाती थी पूजा । अब ये (तथाकथित शांति प्रेमी)मंदिरों को बंद कराने की मांग कर रहे हैं। यह हमारे अपने देश में क्या हो रहा है?”  इस वीडियो को कई लोगों ने फेसबुक और ट्वीटर पर इसी दावे के साथ शेयर किया है।

 

 

 

कहां का है  वायरल वीडियो?

इस वीडियो के फ्रेम को गूगल पर रिवर्स सर्च करने से हमें कुछ मीडिया रिपोर्टस मिले, इसके साथ ही जब वीडियो को प्ले करके सुनने पर पीछे बांग्ला भाषा सुनाई देती है। वायर हो रही पोस्ट के कमेंट पढ़ने पर पता चलता है की कुछ यूजर इसे बांग्लादेश के फेनी शहर का बता रहे हैं। बांग्लादेश के bd न्यूज़ 24 ने 17 अक्टूबर को एक रिपोर्ट जारी की थी, इस में लिखा है “ फेनी में पूजा उत्सव परिषद कार्यक्रम पर हमले के बाद से कस्बे में पुलिस के साथ व्यापक झड़पें हुई हैं, कई मंदिरों और कई हिंदूओं की दुकानों में तोड़फोड़ की गई और वाहनों को आग लगा दी गई है।’’

मंदिरो पर लगातार हमले के विरोध में पूजा उत्सव काउंसिल के लोगो ने ट्रंक रोड पर स्थित काली मंदिर के सामने ह्यूमन चैन बनाया था उसी दौरान पास स्थित बोरो मस्जिद से नमाज़ पढ़ कर वापस आ रहे लोगों से उनकी झड़प हो गई, जिसमें 15 लोगों के घायल होने की खबर आई थी।
इन मीडिया रिपोर्ट से यह बात साफ हो जाती है कि कोलकाताका बता कर शेयर किया जाने वाला वीडियो भारत का है ही नहीं, वायरल वीडियो बांग्लादेश के फेनी शहर का है। इस वीडियो को सोशल मीडिया पर गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है।