comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

6,000 mAh बैटरी के साथ Samsung Galaxy M30s लॉन्च, जानें कीमत

6,000 mAh बैटरी के साथ Samsung Galaxy M30s लॉन्च, जानें कीमत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दक्षिण कोरियाई कंपनी Samsung अपनी M सीरीज को अपडेट कर रही है। इसके तहत कंपनी ने आज भारत में दो नए स्मार्टफोन Galaxy M30s और Galaxy M10s लॉन्च कर दिए हैं। दोनों फोन Galaxy M30 और Galaxy M10 के अपडग्रेड वर्जन हैं। बात करें M30s की तो इस फोन को 6,000 mAh बैटरी के साथ लॉन्च किया गया है। इसके अलावा इसमें ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप भी दिया गया है। क्या है इसकी कीमत और फीचर्स, आइए जानते हैं...

कीमत और उपलब्धता
Samsung Galaxy M30s को दो वेरिएंट में लॉन्च किया गया है। इसके 4GB रैम और 64GB स्टोरेज वेरिएंट की कीमत 13,999 रुपए रखी गई है। वहीं इसके 6GB रैम और 128GB स्टोरेज वेरिएंट की कीमत 16,999 रुपए है। यह हैंडसेट Amazon India और Samsung ऑनलाइन स्टोर पर 29 सितंबर से बिक्री के लिए उपलब्ध होगा। यह फोन ओपल ब्लैक, पर्ल व्हाइट और सेफायर ब्लू रंग में मिलेगा।

स्पेसिफिकेशन
डिस्प्ले

Samsung Galaxy M30s में 6.4 इंच की FHD+ इनफिनिटी यू डिस्प्ले दी गई है, जो कि 1080 x 2340 पिक्सल का रेज्यूलेशन देती है। इस फोन का स्क्रीन टू बॉडी रेशियो 91 प्रतिशत है। 

कैमरा
फोटोग्राफी के लिए इस फोन के बैक में ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप दिया गया है। इसमें f/ 2.0 अपर्चर के साथ 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी सेंसर दिया गया है। वहीं दूसरा 5 मेगापिक्सल का डेप्थ कैमरा और तीसरा 8 मेगापिक्सल का अल्ट्रा-वाइड एंगल सेंसर है। सेल्फी और वीडियो कॉलिंग के लिए इस फोन में 16 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा दिया गया है। 

रैम/ रोम 
यह फोन दो वेरिएंट के साथ आता है। आवश्ययकता पड़ने पर इसकी स्टोरेज क्षमता को माइक्रोएसडी कार्ड के 512GB तक बढ़ाया जा सकता है।

प्लेटफार्म/ प्रोसेसर
ये स्मार्टफोन एंड्रॉयड 9 पाई बेस्ड सैमसंग के One UI पर काम करता है। फोन में ऑक्टा-कोर एक्सीनॉस 9611 प्रोसेसर दिया गया है।

बैटरी
पावर के लिए इस स्मार्टफोन में 6,000 mAh की दमदार बैटरी दी गई है, जो 5 वॉट की फास्ट चार्जिंग को सपोर्ट करेगी। Samsung का कहना है कि इसमें आप 29 घंटे का विडियो प्लेबैक, 49 घंटे की वॉइस कॉल कर सकते हैं। कंपनी का दावा है कि 6,000 mAh बैटरी वाला यह भारत का पहला स्मार्टफोन है।

कमेंट करें
f6Hld
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।