comScore

कानपुर के एक इलाके में 50 कोरोना पॉजिटिव निकले

June 08th, 2020 12:31 IST
 कानपुर के एक इलाके में 50 कोरोना पॉजिटिव निकले

हाईलाइट

  • कानपुर के एक इलाके में 50 कोरोना पॉजिटिव निकले

कानपुर, 7 जून (आईएएनएस)। कानपुर में बर्रा का शिवनगर इलाका शुक्रवार से 50 लोगों के कोरोनावायरस पॉजिटिव निकलने के बाद शहर में सबसे बड़ा हॉटस्पॉट बनकर उभरा है। इलाके को रेड जोन के रूप में चिन्हित कर दिया गया है।

कोरोना संक्रमित निकले अधिकांश लोगों में इस बीमारी के कोई लक्षण नहीं नजर आया।

बर्रा क्षेत्र के एक कॉर्पोरेटर के बीमार पड़ने के बाद मामला सामने आया और परीक्षण के बाद उन्हें कोरोना पॉजिटिव पाया गया। उनका प्रतिनिधि भी जांच में कोरोना संक्रमित निकला।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने संपर्क में आए लोगों का पता लगाना शुरू किया और पाया कि जो लोग संपर्क में आए थे वे भी कोरोना संक्रमित हैं। संक्रमितों में से 19 महिलाएं हैं।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अशोक शुक्ला के अनुसार, कोरोना पॉजिटिव निकले सभी लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, हालांकि उनमें से अधिकांश में कोई लक्षण नहीं हैं।

जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज की उप-प्राचार्य प्रोफेसर ऋचा गिरि ने कहा कि यदि किसी व्यक्ति में लक्षण नहीं नजर आता है तो इसका साफ मतलब है कि उसकी प्रतिरक्षा प्रणाली अच्छी है।

उन्होंने कहा, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि संक्रमित व्यक्ति को ऐसे ही जाने देना चाहिए क्योंकि कोई भी लापरवाही घातक साबित होगी। उन्हें आगे आना होगा और उपचार के लिए चिकित्सा टीमों के साथ सहयोग करना होगा।

इस बीच, सूत्रों ने कहा कि संक्रमित निकलने वालों में से अधिकांश वे लोग हैं जो टेलीविजन पर रामायण देखने के लिए एक स्थानीय पार्षद के घर गए थे, जिसे पिछले महीने तक दूरदर्शन द्वारा दिखाया जा रहा था।

टेलीविजन पर रामायण देखने की उनकी उत्सुकता में, लोगों ने न तो मास्क पहने और न ही सामाजिक दूरी नियम का पालन किया।

एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा, यह क्षेत्र वास्तव में क दलित बस्ती है और अधिकांश निवासी दूध, सब्जी, फल आदि बेचकर गुजर-बसर करते हैं। महिलाएं घरेलू नौकरानी के रूप में काम करती हैं। इस इलाके को अब हॉटस्पॉट घोषित कर दिया गया है और हम जांच को और बढ़ा रहे हैं।

कोरोना परीक्षण रिपोर्ट आने के बाद कानपुर के आईजी मोहित अग्रवाल ने शुक्रवार रात इलाके का दौरा किया।

आईजी ने क्षेत्र में आवश्यक वस्तुओं की घर-घर आपूर्ति करने का आदेश दिया और लोगों को लॉकडाउन नियमों का उल्लंघन करने और उनके घरों से बाहर निकलने पर कार्रवाई की चेतावनी दी।

स्थानीय निवासी रामदेवी ने कहा कि इलाके के लोग अपने घरों से काम के लिए निकलते हैं और बातचीत करने के लिए भी निकलते हैं।

रामदेवी और उनकी रिश्तेदार कृष्णा उन लोगों में शामिल हैं, जो रामायण देखने के लिए पार्षद के घर गए और यह मानने से इनकार किया है कि इससे कोरोना फैल गया।

उन्होंने कहा, हमारे घर में टीवी सेट नहीं है इसलिए हम रामायण देखने के लिए वहां जाते थे। रामायण को देखकर कोई भी कोरोना संक्रमित कैसे हो सकता है?

कमेंट करें
hOV3F