comScore

COVID-19: कोरोनावायरस से संक्रमित फेफड़े की पहली 3D तस्वीर आई सामने, देखते ही सहमी दुनिया


हाईलाइट

  • कोरोना वायरस के कारण दुनियाभर में चार हजार से अधिक लोगों की मौत
  • उत्तराखंड के 12 वीं कक्षा तक के सभी स्कूल 31 मार्च तक बंद
  • कोरोनावायरस से संक्रमित फेफड़े की 3D तस्वीर आई सामने

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। कोरोनावायरस (Corona Virus) का कहर लगातार बढ़ते ही जा रहा है। WHO ने इसे महामारी घोषित कर दिया है। वायरस के चलते अबतक दुनिया भर में 4,967 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं और मरने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। इस जानलेवा वायरस से निपटने दुनियाभर के वैज्ञानिक जुटे हुए हैं। वहीं रेडियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ नॉर्थ अमेरिका ने कोरोनावायरस से संक्रमित फेफड़े की 3D तस्वीर जारी की है। 

फोटो में साफ दिख रहा है कि कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों के फेफड़े बलगम से भर गया है। इस कारण पीड़ित शख्स को सांस लेने में दिक्कत होती है। इस 3D तस्वीर की मदद से डॉक्टर एक्स-रे और सीटी स्कैन से मरीजों को जल्द पहचान जाएंगे। इसके बाद संक्रमित मरीज को तुरंत पर्सनल वार्ड में शिफ्ट किया जाएगा। 

उत्तराखंड के 12 वीं कक्षा तक के सभी स्कूल 31 मार्च तक बंद
कोरोनावायरस चीन समेत कई देशों के लिए घातक बन चुका है। इसी बीच उत्तराखंड सरकार ने प्रदेश के 12वीं कक्षा तक के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को 31 मार्च तक बंद रखने का निर्णय लिया है। गुरुवार को उत्तराखंड स्कूल शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम ने इस बात की जानकारी दी। इस दौरान केवल बोर्ड परीक्षाएं जारी रहेंगी। इसके अलावा सभी स्कूल बंद रहेंगे।

कोरोना वायरस से मरते दंपति का वीडियो वायरल, देखकर आंसू रोक नहीं पाएंगे

कोरोनावायरस को लेकर आईआरईएफ ने जारी किए दिशा-निर्देश
इंडियन रजिस्टर फॉर एक्सरसाइज फैसिलिटीज (आईआरईएफ) ने कोरोनावायरस की जबरदस्त रोकथाम के लक्ष्य को लेकर गुरुवार को सभी जिम/फिटनेस और योगा सेंटरों के लिए जनहित में सुरक्षा निर्देश जारी किए हैं।इन दिशानिर्देशों के बारे में एसपीईएफएल के मुख्य परिचालन अधिकारी तहसीन जाहिद ने बताया, व्यायाम केंद्रों के लिए ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है क्योंकि इनमें समूहों में लोग व्यायाम करते हैं और ये केंद्र समस्या कई गुना बढ़ा सकते हैं।

जाहिद ने कहा, कोरोनावायरस की चपेट में आने से बचने का सबसे सही उपाय निजी स्वच्छता पर अधिक ध्यान देना है। इसलिए व्यायाम केंद्रों को भी बुनियादी स्वच्छता के नियमों का स़ख्ती से पालन करना होगा। जैसे कि जिम मशीन सेनिटाइजेशन, जिम में हैंड सेनिटाइजर्स की सुलभता, प्रत्येक व्यक्ति का निजी तौलिया और वॉशरूम और लॉकरों को नियमित रूप से कीटाणु मुक्त करना इत्यादि।

                                                                                                                                                                                                               आईएनएस इनपुट के साथ

कमेंट करें
YJHul