दैनिक भास्कर हिंदी: इंटरपोल ने बताया- हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी अमेरिका में नहीं

July 16th, 2018

हाईलाइट

  • इंटरपोल वॉशिंगटन ने कहा है कि फरार हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी संयुक्त राज्य अमेरिका में नहीं हैं।
  • इंटरपोल वाशिंगटन ने पिछले बुधवार को भारत के अनुरोध पर जवाब दिया था।
  • भारत ने चोकसी के ठिकाने के बारे में और जानकारी मांगने के लिए इंटरपोल को दोबारा लेटर लिखा है।

डिजिटल डेस्क, वाशिंगटन। इंटरपोल वॉशिंगटन ने कहा है कि भारत के फरार हीरा कारोबारी नीरव मोदी के चाचा मेहुल चोकसी अमेरिका में नहीं हैं। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, इंटरपोल वाशिंगटन ने पिछले बुधवार को भारत के अनुरोध पर जवाब दिया था कि चोकसी अमेरिका में नहीं है। सूत्रों ने बताया कि भारत ने चोकसी के ठिकाने के बारे में और जानकारी मांगने के लिए इंटरपोल को दोबारा लेटर लिखा है।

11 जून को, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने प्रिवेन्शन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) कोर्ट मुंबई में फ्यूजीटिव इकोनॉमिक ऑफेंडर ऑर्डिनेंस, 2018 के तहत नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के खिलाफ दो अलग-अलग आवेदन दायर किए थे। ईडी ने भारत, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त अरब अमीरात में उसकी संपत्ति जब्त करने के आदेश भी जारी करने को कहा। सूत्रों ने कहा, नीरव मोदी ने ब्रिटेन में राजनीतिक शरण नहीं मांगी है। बता दें कि नीरव मोदी के खिलाफ पहले ही गैर जमानती वारंट जारी किया जा चुका है।

इससे पहले इंटरपोल ने पंजाब नेशनल बैंक में हुए करोड़ों के घोटाले के मामले में नीरव के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी किया था। इसके अलावा नीरव के भाई निश्चल मोदी और कंपनी के एक्जिक्यूटिव सुभाण परब के खिलाफ भी रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था। 28 जून को मिनिस्ट्री ऑफ एक्सटर्नल अफेयर्स (MEA) के एक अधिकारी ने बताया था कि भारत ने कई देशों से अनुरोध किया है कि वह नीरव मोदी में अपने देश में न आने दें। MEA ने नीरव मोदी पर प्रतिबंध लगाने के लिए फ्रांस, ब्रिटेन और बेल्जियम समेत कुछ यूरोपीय देशों से भी सहायता मांगी है।

पीएनबी ने इस साल की शुरुआत में हजारों करोड़ के घोटाले का पता लगाया था, जिसमें नीरव मोदी और मेहुल चोकसी ने बैंक के कुछ कर्मचारियों की कथित मिलिभगत से 2 बिलियन अमरीकी डालर की कथित तौर पर धोखाधड़ी को अंजाम दिया था।