comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

BRICS सम्मेलन के बाद PM मोदी भारत रवाना, काउंसिल से बोले- रोडमैप का करें निर्माण

BRICS सम्मेलन के बाद PM मोदी भारत रवाना, काउंसिल से बोले- रोडमैप का करें निर्माण

हाईलाइट

  • ब्रिक्स का 11वां शिखर सम्मेलन समाप्त, PM मोदी हुए भारत के लिए रवाना
  • पीएम मोदी ने ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल और NDB से की चर्चा
  • काउंसिल को अगले ब्रिक्स सम्मेलन तक रोडमैप बनाने का भी अनुरोध किया

डिजिटल डेस्क, ब्रासिलिया। ब्राजील की राजधानी ब्रासिलिया में आयोजित किया गया 11वां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का आज (गुरुवार) समापन हुआ। शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए दो दिवसीय दौरे पर ब्राजील गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार रात भारत के लिए रवाना हो गए। सम्मेलन के आखिरी दिन पीएम मोदी ने ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल (BBC) और न्यू डेवलपमेंट बैंक (NDB) के साथ बातचीत में ब्रिक्स आर्थिक सहयोग को मजबूत करने के लिए एक रोडमैप तैयार करने की इच्छा जाहिर की।

पीएम मोदी ने कहा कि 'ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल, अगले ब्रिक्स सम्मेलन तक 500 बिलियन डॉलर के इंट्रा-ब्रिक्स व्यापार का लक्ष्य हासिल करने के लिए एक रोडमैप का निर्माण करे।' इसके अलावा उन्होंने कृषि, स्वास्थ्य और क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों पर केंद्रित इंट्रा-ब्रिक्स व्यापार को बढ़ाने पर भी चर्चा की।

इस चर्चा में पीएम मोदी ने बताया कि 'ब्रिक्स बिजनेस काउंसिल और न्यू डेवलपमेंट बैंक के बीच साझेदारी अनुबंध दोनों ही संस्थाओं के लिए उपयोगी होगा।' इस दौरान पीएम मोदी ने ब्रिक्स देशों और NDB से डिजास्टर रेसिलिएंट इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए गठबंधन की पहल में शामिल होने की अपील भी की। साथ ही उन्होंने कहा कि 'भारत में NDB के क्षेत्रीय कार्यालयों के स्थापना का कार्य भी जल्द से जल्द पूरा किया जाए। इससे हमारी प्राथमिकता के क्षेत्रों में प्रोजेक्ट्स को बढ़ावा मिलेगा।'

बता दें कि ब्रिक्स में शामिल सभी पांचों देश द्वारा आर्थिक सहयोग को मजबूत करने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है। पीएम मोदी ने अपनी चर्चा में कहा कि ब्रिक्स आर्थिक सहयोग को मजबूत करने का हमारा सपना बिजनेस काउंसिल और न्यू डेवलपमेंट बैंक के पूरे सहयोग से ही साकार हो सकता है।

आतंकवाद पर वार

पीएम मोदी ने काउंसिल और NDB के साथ चर्चा करने से पहले ब्रिक्स सम्मेलन के मुख्य सत्र में अपना संबोधन भी दिया। इस दौरान उन्होंने आतंकवाद पर निशाना हमला बोला। उन्होंने बताया कि आतंकवाद के कारण ग्लोबल इकोनॉमी 1 ट्रिलियन डॉलर का नुकसान होता है और इसकी वजह से विकासशील देशों की इकोनॉमिक ग्रोथ रेट 1.5 फीसदी की कमी आई है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि मुझे खुशी है कि ब्रिक्स स्ट्रेटेजिस फॉर काउंटरिंग टेररिज्म पर पहला सेमिनार आयोजित किया गया है। हम आशा करते हैं कि ऐसी कोशिशों और ब्रिक्स देशों की गतिविधियां आतंकवाद और दूसरे संगठित अपराधों के खिलाफ सशक्त ब्रिक्स सिक्योरिटी को-ऑपरेशन में इजाफा करेंगी।

व्यापार और निवेश पर ध्यान

इस सत्र में पीएम मोदी ने कहा कि 'ग्लोबल इकोनॉमी ग्रोथ के लिए मंदी के बाद भी ब्रिक्स देश करीब-करीब आधा योगदान देते हैं और हमें आपसी व्यापार और निवेश पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।' उन्होंने बताया कि 'ब्रिक्स देशों के बीच विश्व व्यापार का सिर्फ 15% है, जबकि हमारी सम्मिलित आबादी दुनिया की आबादी की 40 फीसदी से भी ज्यादा है।'

कमेंट करें
vEflj