दैनिक भास्कर हिंदी: PNB Fraud: भगोड़े व्यापारी नीरव मोदी प्रत्यर्पण मामले में एक दिसंबर के बाद होगा फैसला

August 27th, 2020

हाईलाइट

  • एक दिसंबर को दोनों पक्ष अपनी अंतिम दलीलें देंगे
  • PNB को करीब 13 हजार करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप

डिजिटल डेस्क, लंदन। भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी के खिलाफ ब्रिटेन में चल रहे प्रत्यर्पण मामले में फैसला एक दिसंबर के बाद सुनाया जाएगा। वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में गुरुवार को निर्धारित सुनवाई के दौरान जिला न्यायाधीश सैमुअल गूजी ने मामले की सात से 11 सितंबर के बीच दूसरे चरण की सुनवाई की तारीख निर्धारित की।

अगले महीने होने वाले सुनवाई के दूसरे चरण में 49 वर्षीय भगोड़े नीरव मोदी के खिलाफ प्रथम ²ष्टया मामला स्थापित करने पर बहस पूरी हो जाने की उम्मीद है। भारतीय अधिकारियों ने नीरव के प्रत्यर्पण का अनुरोध किया है और इस वर्ष की शुरुआत में ब्रिटिश गृहमंत्री प्रीति पटेल ने इसे प्रमाणित किया था।

एक दिसंबर को दोनों पक्ष अपनी अंतिम दलीलें देंगे
नीरव मोदी पर सबूतों के गायब करने और गवाहों को धमकी देने का भी आरोप है। अदालत ने तीन नवंबर को अतिरिक्त सुनवाई भी निर्धारित की है। इसके बाद एक दिसंबर को दोनों पक्ष अपनी अंतिम दलीलें देंगे। नीरव मोदी पिछले साल मार्च में अपनी गिरफ्तारी के बाद से दक्षिण-पश्चिम लंदन की वैंड्सवर्थ जेल में बंद है और वह सात सितंबर को मुकदमे की सुनवाई शुरू होने तक हिरासत में रहेगा। उनका बचाव कर रही टीम ने इंग्लैंड की सबसे भीड़भाड़ वाली जेलों में से एक वैंड्सवर्थ में नीरव मोदी के बिगड़ते मानसिक स्वास्थ्य के बारे में भी चिंता जताई है। 

PNB को करीब 13 हजार करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप
उल्लेखनीय है कि नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक को करीब 13 हजार करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप है। बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स के जरिए कई सालों तक लोन लेकर इस धोखाधड़ी को अंजाम दिया गया था। फरवरी 2018 में जब पीएनबी घोटाला देश के सामने आया था, तभी नीरव मोदी फरार हो गया। उसके बाद उसे लंदन में गिरफ्तार किया गया। तब से लेकर अब तक उसकी देश में कई करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की जा चुकी है। नीरव के प्रत्यर्पण के लिए भारत निरंतर प्रयास कर रहा है।

नीरब मोदी मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप
2018 में कथित बैंक धोखाधड़ी का मामला सामने आने के बाद अमी मोदी ने देश छोड़ दिया था। ईडी ने अमी मोदी पर उनके रिश्तेदार मेहुल चोकसी और अन्य लोगों के अलावा उनके पति नीरव मोदी के साथ मिलकर साजिश रचने और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप लगाए हैं। नीरव मोदी (49), मार्च 2019 में लंदन में गिरफ्तार होने के बाद वर्तमान में ब्रिटेन की जेल में बंद है। नीरव मोदी को इस साल की शुरुआत में मुंबई की एक अदालत ने भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया था और अदालत ने उसकी संपत्ति को जब्त करने का भी आदेश दिया था। ED अब तक उसकी 329 करोड़ रुपए की संपत्ति को जब्त कर चुका है। 

 

 

 

खबरें और भी हैं...