comScore

अमेरिका: डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ सीनेट में चलेगा महाभियोग, 228 सांसदों ने दी मंजूरी


हाईलाइट

  • 228 सांसदों ने पक्ष में डाला वोट
  • 193 सांसदों ने विपक्ष में की वोटिंग
  • निचले सदन में डेमोक्रेट्स का दबदबा है

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड्र ट्रंप की मुश्किलें बढ़ने वाली है। उनके खिलाफ संसद के ऊपरी सदन सीनेट में महाभियोग की कार्यवाही चलाई जाएगी। संसद के निचले सदन में चल रही महाभियोग की कार्यवाही को ऊपरी सदन सीनेट में भेजने के पक्ष में सांसदों ने मंजूरी दे दी है। राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की कार्यवाही सीनेट में चलाए जाने के पक्ष में 228 सांसदों ने जबकि विपक्ष में 193 सांसदों ने वोट दिया। 

सात सासंदों को नियुक्त किया
सदन में महाभियोग चलाने के लिए अभियोजन पक्ष की ओर से सात सासंदों को नियुक्त किया गया है। ये सांसद डेमोक्रेट सदस्यों के साथ महाभियोग की कार्यावाही पर बहस करेंगे। स्पीकर नैंसी पेलोसी ने सभी को नामित किया है। एडम शिफ सदस्यों की समिति के प्रमुख है। 

ट्रंप पर लगे ये आरोप?
डोनाल्ड ट्रंप पर 18 दिसंबर 2019 को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने महाभियोग लगाया था। राष्ट्रपति पर दो आरोप हैं। पहला आरोप हैं कि उन्होंने 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में संभावित उम्मीदवार जो बिडेन के खिलाफ भ्रष्टाचार की जांच के लिए यूक्रेन सरकार पर दबाव बनाया था। ट्रंप और यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडीमिर जेलेंस्की के बीच फोन पर हुई बातचीत एक अहम सबूत है। वहीं दूसरा संसद के काम में रुकावट पैदा की। 

कैसे महाभियोग चलाया जाता है?
अमेरिकी संसद के निचले सदन के पास ही महाभियोग लगाने की शक्ति होती है। हाउस ज्यूडिशियरी कमेटी की महाभियोग की कार्यवाही की जिम्मेदारी होती है। सदन के 435 सदस्यों के बहुमत से सदन बहस और वोट करता है। सदन में एक अधिकारी के खिलाफ आरोप लाने वाली जूरी के रूम में काम करता है। संसद के उच्च सदन के पास सभी महाभियोगों की शक्ति है। जब किसी राष्ट्रपति पर मुकदमा चलाया जाता है, तब सर्वोच्च न्यायालय के चीफ जस्टिस कार्यवाही की अध्यक्षता करते हैं। 

तीन राष्ट्रपतियों पर चला महाभियोग
अमेरिका के इतिहास में अबतक कुल तीन राष्ट्रपतियों पर महाभियोग चलाया गया है। एंड्रयू जॉनसन, बिल क्लिंटन और डोनाल्ड ट्रंप। जॉनसन और क्लिटंन को सीनेट ने पद से नहीं हटाया था। वहीं राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने महाभियोग से बचने के लिए अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। 

अबतक आठ अधिकारियों को पद से हटाया
सदन में 50 से अधिक बार महाभियोग की कार्यवाही हुई है। अबतक केवल आठ अधिकारियों को दोषी पाकर पद से हटाया गया है। सभी अधिकारी संघीय न्यायाधीश थे। बता दें महाभियोग राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और अमेरिका के सभी अधिकारियों के खिलाफ चलाया जा सकता है। 

कैसे राष्ट्रपति को पद से हटाया जा सकता है?
राष्ट्रपति को पद से हटाने के लिए 100 सीटों वाली सीनेट में दो-तिहाई बहुमत विरोध में हुए। ऐसे में राष्ट्रपति को पद छोड़ना पड़ता है। बता दें डोनाल्ड ट्रंप को हटाने काफी मुश्किल है। ऊपर सदन यानी सीनेट में उनकी पार्टी रिपब्लिकंस के 53 सांसद हैं। वहीं विपक्ष डेमोक्रेटस के 45 सांसद हैं। 

कमेंट करें
gATNP