comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

विदेशी धरती पर राहुल ने कहा- हमारे देश को बांट रहे BJP और RSS

August 25th, 2018 10:39 IST

हाईलाइट

  • बीजेपी और आरएसएस हमारे देश में नफरत फैलाने का काम कर रहे हैं: राहुल
  • गुरुवार रात को राहुल गांधी का भाषण प्रसारित नहीं हो पाया था, जिसके बाद शुक्रवार को जारी हुआ।
  • राहुल गांधी ने कहा, देश के किसान आत्महत्या करने को मजबूर हैं।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर विदेशी धरती से बीजेपी और आरएसएस पर हमला बोला है। जर्मनी के बर्लिन में राहुल ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ हमारे देश को बांटने का काम कर रहे हैं। राहुल ने कहा हिंदुस्तान में आज जो सरकार है, उसका काम करने का तरीका अलग है। बीजेपी और आरएसएस हमारे देश में नफरत फैलाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत की असली ताकत हर व्यक्ति की आवाज सुनने की है। राहुल ने कहा कि देश में नौकरियां नहीं हैं। किसान आत्महत्या करने को मजबूर हैं।

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जर्मनी और ब्रिटेन की 5 दिवसीय यात्रा पर हैं। ये बयान राहुल ने गुरुवार रात बर्लिन में दिया है। दरअसल, गुरुवार रात राहुल गांधी का बर्लिन में संबोधन था। उन्होंने इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को संबोधित किया, लेकिन इसका प्रसारण तकनीकि खराबी के कारण नहीं हो पाया था। उनका भाषण यूट्यूब पर लिंक के जरिए अंतरराष्ट्रीय समयानुसार रात 9.30 बजे शुरू होना था। कहा गया कि कार्यक्रम 10.30 बजे शुरू होगा, लेकिन उसके बाद भी शुरू नहीं हो सका। इसके बाद शुक्रवार को उनका संबोधन जारी किया गया है। राहुल ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा की विचारधारा में काफी अंतर है। आरएसएस महिलाओं के साथ भेदभाव करता है। आपको आरएसएस में कभी कोई महिला नजर नहीं आएगी, लेकिन कांग्रेस भेदभाव में विश्वास नहीं रखती है। 

आज लंदन में करेंगे छात्रों से संवाद
शुक्रवार देर शाम राहुल गांधी लंदन में कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। राहुल लंदन स्कूल ऑफ इकॉनोमिक्स के छात्रों से सीधा संवाद करेंगे। भारतीय समयानुसार रात 10 बजे ये संवाद होगा। शुक्रवार शाम राहुल ओवरसीज कांग्रेस (भारतीय समुदाय) के लोगों को भी संबोधित करेंगे। राहुल गांधी का जर्मनी दौरा दो दिनों का था।

कमेंट करें
TiX2x
कमेंट पढ़े
sanjay Kumar Chauhan August 24th, 2018 14:36 IST

inka khandan isi kam ke liye pahle se charchit hai ye hamesha desh ko badnam hi krte aaye.

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।