दैनिक भास्कर हिंदी: तालिबान, अफगानिस्तान सरकार को मान्यता नहीं देता

August 16th, 2020

हाईलाइट

  • तालिबान, अफगानिस्तान सरकार को मान्यता नहीं देता

काबुल, 16 अगस्त (आईएएनएस)। कतर की राजदानी दोहा में जल्द ही होने वाली अंतर-अफगान शांति वार्ता के ठीक पहले तालिबान ने कहा है कि वह काबुल में सरकार को वैध प्रणाली के रूप में मान्यता नहीं देता है।

एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई।

टोलो न्यूज ने शनिवार को तालिबान के बयान के हवाले से कहा, इस्लामिक अमीरात काबुल प्रशासन को सरकार के रूप में मान्यता नहीं देता है, लेकिन इसे अमेरिकी कब्जे को बरकरार रखने के लिए काम करने वाले पश्चिमी आयातित ढांचे के रूप में देखता है।

तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने पिछले सप्ताह एक ईरानी समाचार पत्र को दिए साक्षात्कार में कहा था कि समूह अफगान सरकार को वैध नहीं मानता है। जिसके बाद अब यह व्यक्तव्य आया है।

साक्षात्कार में, शाहीन ने तालिबान को युद्ध के विजेता के रूप में बताया और कहा कि कि समूह अफगानिस्तान में केवल इस्लामी सरकार लाने के लिए अंतर-अफगान वार्ता में भाग लेगा।

वहीं, शनिवार के व्यक्तव्य के जवाब में, अफगान प्रेसिडेंशियल पैलेस ने कहा कि तालिबान द्वारा ऐसे बयान केवल समय बर्बाद करने और बेतुके बहाने बनाने के लिए हैं।

अधिकारियों ने कहा है कि तालिबान को वार्ता के मुख्य पक्ष के रूप में अफगान सरकार को जरूर स्वीकार करना चाहिए।

वीएवी/जेएनएस