comScore

जानिए भारत में एक महीने पहले क्यों मनाया जाता है टीचर्स डे?

September 05th, 2018 14:36 IST
जानिए भारत में एक महीने पहले क्यों मनाया जाता है टीचर्स डे?

डिजिटल डेस्क। कहते हैं कि एक गुरु के बिना किसी भी लक्ष्य तक पहुंच पाना संभव नहीं है। जैसे दिया जलकर अंधेरे को दूर करता है, ठीक वैसे ही गुरु भी खुद जलकर छात्रों की जिंदगी को रोशन करता है। गुरु ही आपको जिंदगी जीने का तरीका और उसमें आने वाली मुश्किलों से लड़ने के बारे में बताता है। यही वजह है कि सैकड़ों साल पहले की कई कहानियां ऐसी हैं, जिसमें गुरु और शिष्य के रिश्ते को बड़ी ही खूबसूरती के साथ बताया गया है। इसमें सबसे बड़ा उदारहरण एकलव्य का है, जिसने गुरु दक्षिणा के तौर पर द्रोणाचार्य को अपना अंगूठा दे दिया था। यही वजह है कि भगवान से पहले गुरु का नाम लिया जाता है। हर साल 5 सितंबर को भारत में टीचर्स डे सेलिब्रेट किया जाता है। जबकि इंटरनेशनल टीचर्स डे ठीक एक महीने बाद यानी कि 5 अक्टूबर को मनाया जाता है। भारत में इसे एक महीने पहले मनाने की वजह देश के द्वितीय राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन हैं। दरअसल, डॉ. सर्वपल्ली का जन्म 5 सितम्बर को हुआ था। उनके सम्मान में ही 5 सितंबर को भारत में टीचर्स डे मनाया जाता है। वे राष्ट्रपति होने के साथ-साथ एक शिक्षक भी थे। 
 

 

कमेंट करें
ZOMGq
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।