comScore

Travel: भारत का स्‍कॉटलैंड है कूर्ग, घूमने जाए तो इन जगहों को करें ट्रिप में शामिल


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कर्नाटक के लोकप्रिय पर्यटन स्‍थलों में से एक है कूर्ग (Coorg)। इसे भारत का स्‍कॉटलैंड और कर्नाटक का कश्‍मीर भी कहा जाता है। कर्नाटक के पश्चिमी घाट की वादियों में स्थित इस ख़ूबसूरत हिल स्टेशन पर हर साल देश-विदेश से आए पर्यटकों का जमावड़ा लगा रहता है। नदी, झरने, पहाड़ और चाय के ख़ूबसूरत बागान ही कूर्ग की असली पहचान हैं। तो आइए बताते हैं आपको यहां कि खास जगहों के बारे में:

इरुप्पु फ़ॉल
ब्रह्मगिरी रेंज में स्थित ये झरना पर्यटकों को ख़ूब आकर्षित करता है। इस ख़ूबसूरत झरने को 'लक्ष्मण तीर्थ झरना' के रूप में भी जाना जाता है। इरुप्पु फ़ॉल प्रमुख पर्यटकों के आकर्षण का मुख़्य केंद्र होने के साथ-साथ तीर्थ स्थान भी है। इस झरने के पास ही प्रसिद्ध शिव मंदिर और रामेश्वर मंदिर हैं। शिवरात्रि के दौरान यहां भक्तों का तांता लगा रहता है।

मल्लल्ली फ़ॉल
कूर्ग के उत्तरी क्षेत्र में स्थित ये झरना यहां के रहस्यमई झरने के तौर पर जाना जाता है। इस झरने का निर्माण कुमारधारा नदी से हुआ है। यह झरना, पुष्‍पागिरी पहाडि़यों की तलहटी से निकला है और इसकी ऊंचाई लगभग 60 मीटर है। बरसात के समय में ये झरना विकराल रूप ले लेता है। ऊंचाई से गिरता हुआ पानी ज़मीन पर गिरने से पहले हवा में ही गायब हो जाता है। जिस कारण इस क्षेत्र में मौसम बेहद ठंडा बना रहता है।

ब्रह्मागिरि वन्‍यजीव अभयारण्‍य
इस अभयारण्‍य की सबसे ऊंची चोटी, ब्रह्मगिरी है। यह स्‍थान ट्रैकर्स के लिए सबसे अच्‍छा स्‍थान है। ट्रेक के चारों ओर इरुपू फ़ॉल, भगवान विष्णु का थिरुनलेलाय मंदिर और पक्कीपाठलम की गुफा भी है। वहीं इस अभयारण्‍य में कई प्रकार के वन्‍यजीव पाएं जाते है जैसे - शेर, पूंछ मकाऊ, हाथी, टाइगर, जंगली बिल्‍ली, लिओपार्ड, जंगली कुत्‍ता, स्‍लोथ भालू, जंगली सुअर, सांभर।

तडियामंडल पीक
तडियामंडल पीक कूर्ग का सबसे ऊंचा पर्वत शिखर है। यह 1748 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस जगह तक ट्रेकिंग करके जाना काफ़ी मुश्किल भी है। प्रकृति के मनोरम दृश्यों का लुत्फ़ उठाना है, तो फ़ोटोग्राफ़ी के लिए ये एक शानदार जगह है। पहाड़ की चोटी से देखने पर कुदरत का शानदार नज़ारा दिखता है।

ताल कावेरी
यह ब्रह्मगिरि पहाड़ी पर स्थित है और इसे कावेरी नदी का उत्‍पत्ति स्‍थल माना जाता है। वर्तमान समय में यहां पर एक कुंड बना हुआ है जहां से कावेरी निकलती है। इस कुंड को हिंदू धर्म के अनुयायियों के बीच एक पवित्र टैंक माना जाता है। इस कुंड से आगे कुछ किलोमीटर तक कावेरी भूगर्भ में बहती है। कुंड के किनारे अगस्त्य मुनि, शिवजी एवं गणपति के मंदिर में दर्शन कर भक्तगण इस पवित्र जल में स्नान करते हैं।

कैसे जाएं, कहां रुके और क्या खरीदारी करें?
कूर्ग हवाई, रेल और सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। हवाई मार्ग से सबसे नजदीकी एयरपोर्ट मैसूर (121) और मंगलौर (168) है। वहीं रेल मार्ग से सबसे नजदीकी रेलवे स्‍टेशन मंगलौर, मैसूर या हसन है। इसके अलावा सड़क मार्ग से जाने के लिए बसों और निजी वाहनों के जरिए भी आप यहां पहुंच सकते हैं। कूर्ग घूमने जाएं और ख़रीदारी न करें ऐसा कैसे हो सकता है। कूर्ग में आपको कई तरह की हैंडमेड चॉकलेट और कॉफ़ी के बाज़ार भी देखने को मिलेंगे। वहीं रुकने की बात की जाए तो यहां बजट होटल से लेकर लग्जरी होटल आपको मिल जाएंगे।

कमेंट करें
ylJYp