comScore

पुलिस कर्मी प्लाज्मा देने पहुँचा मेडिकल, जाँच में एंटी बॉडी लेवल कम मिला, नहीं हो सका डोनेशन

पुलिस कर्मी प्लाज्मा देने पहुँचा मेडिकल, जाँच में एंटी बॉडी लेवल कम मिला, नहीं हो सका डोनेशन

डिजिटल डेस्क जबलपुर । कोरोना से स्वस्थ हुए एक 25 साल के पुलिस कर्मी ने प्लाज्मा डोनेशन की इच्छा जताते हुए मेडिकल के डॉक्टर से संपर्क किया। पुलिस कर्मी की इस पहल पर उत्साहित डॉक्टर ने उन्हें मेडिकल बुलाकर एंटी बॉडी टेस्ट के लिए सैम्पल लिया। शाम को आई रिपोर्ट में एंटी बॉडी का लेवल काफी कम निकला, जिससे उक्त पुलिस कर्मी के प्लाज्मा डोनेशन के प्लान को रद््द करना पड़ा। 
जानकारी के अनुसार अप्रैल माह में उक्त पुलिस कर्मी कोरोना संक्रमित हुआ था। संक्रमित होने के एक माह से अधिक समय होने पर वे प्लाज्मा डोनेशन के लिए फिट थे, स्वेच्छा से वे किसी गंभीर मरीज को स्वस्थ करने के लिए प्लाज्मा देने तैयार थे। गुरुवार को वे प्लाज्मा डोनेशन के नोडल अधिकारी डॉ. नीरज जैन से संपर्क कर मेडिकल पहुँचे। डोनेशन के पहले उनका एंटी बॉडी व वायरल लोड जाँच का टेस्ट हुआ। इस टेस्ट की सुविधा फिलहाल मेडिकल में नहीं है तो प्राइवेट लैब में उनका सैम्पल भेजा गया। शाम को मिली रिपोर्ट में एंटी बॉडी निगेटिव तो नहीं आया, लेकिन उसका लेवल इतना कम था िक किसी मरीज को प्लाज्मा चढ़ाने से फायदा न के बराबर ही होना था। बी निगेटिव रक्त वाले इस पुलिस कर्मी का 15-20 दिन बाद फिर से एंटी बॉडी टेस्ट कराने का विचार किया जा रहा है। 
निजी हॉस्पिटल के मरीजों की क्या जानकारी है 
गुरुवार को 49 नए संक्रमितों के मुकाबले सिर्फ 11 मरीजों को डिस्चार्ज किए जाने के मामले में कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से इसका कारण पूछा। इस मामले में सीएमएचओ की टीम के सदस्यों की ढीली कार्यप्रणाली भी कहीं न कहीं कारण मानी जा रही है। सूत्रों का कहना है कि लिपिकीय स्तर पर वर्तमान में भूतपूर्व सीएमएचओ के विश्वासपात्रों की अधिकता है, उनका कामकाज संतोषप्रद नहीं होने पर भी सीएमएचओ चाहकर भी अपनी टीम नहीं बना पा रहे हैं। वहीं उन पर काम करने वाले कर्मी जो पूर्व अधिकारी की गुड बुक में नहीं हैं उन्हें हटाने का दबाव भी है। अधिकारी स्तर पर कुछेक ही शुरू से कोरोना संकट में सक्रिय हैं, बाद में जिन डॉक्टर्स को जिम्मेदारी दी गई वे अपनी प्राइवेट क्लीनिक या कमीशनबाजी पर ही ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। यही कारण है कि निजी अस्पतालों में भर्ती कोरोना संक्रमितों में से कितनों को स्वस्थ होने के बाद छुट्टी दी गई, डिस्चार्ज कम क्यों हैं.. कलेक्टर ने यह सवाल सीएमएचओ से किए। कलेक्टर ने इसके लिए अलग से टीम बनाने के निर्देश भी दिए हैं। 

कमेंट करें
b6TzX