सलामत रहे दोस्ताना हमारा : गलती से भारतीय सीमा में घुसे मानसिक तौर पर बीमार 6 बांग्लादेशियों को इलाज के बाद भेजा घर

November 18th, 2021

हाईलाइट

  • कानूनी और राजनयिक औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद उन्हें उनके परिवारों को सौंप दिया गया है

डिजिटल डेस्क,अगरतला। मानसिक रूप से विक्षिप्त अवस्था में अनजाने में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पार कर भारत में आए छह बांग्लादेशी नागरिकों को त्रिपुरा में कई वर्षों के चिकित्सा उपचार के बाद गुरुवार को उनके परिवारों से मिलवाया गया।

अगरतला में बांग्लादेश के सहायक उच्चायुक्त, मोहम्मद जोबायद होसेन, जिन्होंने अगरतला-अखौरा (बांग्लादेश) चेक-पोस्ट के माध्यम से तीन महिलाओं सहित छह बांग्लादेशियों के प्रत्यावर्तन का समन्वय किया, ने कहा कि कानूनी और राजनयिक औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद उन्हें उनके परिवारों को सौंप दिया गया है।

होसेन ने आईएएनएस से कहा, कुछ अन्य मानसिक रूप से दिव्यांग बांग्लादेशी नागरिकों का आधुनिक मनोरोग अस्पताल में इलाज चल रहा है। अस्पताल से डिस्चार्ज के लिए फिट प्रमाणपत्र मिलने के बाद, हम उनके बारे में आगे की कार्रवाई करेंगे।

उन्होंने कहा कि विभिन्न अधिकारियों ने छह लोगों और उनके परिवारों के बारे में जानकारी हासिल की।

गुरुवार को जियारुल इस्लाम, हनीफा अख्तर, अल्पना खातून, रीना अख्तर, माणिक मिया और शाजान मिया के माता-पिता, पति, बहन और भाई अगरतला-अखौरा चेक-पोस्ट पर उनका स्वागत करने पहुंचे।

स्वदेश भेजे गए बांग्लादेशी नागरिक छह जिलों-किशोरगंज, बगुरा, मयमनसिंह, ढाका, जमालपुर और मौलवीबाजार के निवासी हैं।

होसेन और अखौरा उपजिला के कार्यकारी अधिकारी रुमाना अख्तर सहित भारतीय और बांग्लादेशी अधिकारी इस दौरान मौजूद रहे। यह एक भावनात्मक पल था, जब वह सभी लोग कई वर्षो बाद अपने परिजनों से मिल पाए।

त्रिपुरा स्थित मॉडर्न साइकियाट्री अस्पताल के प्रभारी स्वप्न बर्मन ने कहा कि बांग्लादेश के छह नागरिकों का चार से पांच साल तक अस्पताल में इलाज चला और मानसिक रूप से स्थिर पाए जाने के बाद उनकी निर्वासन प्रक्रिया भारत और बांग्लादेश सरकारों के माध्यम से शुरू हुई।

बर्मन ने आईएएनएस से कहा, लगभग 16 और मानसिक रूप से अक्षम बांग्लादेशी रोगियों का अब आधुनिक मनोरोग अस्पताल में इलाज किया जा रहा है। जैसे ही हम उन्हें मानसिक रूप से स्वस्थ पाएंगे, हम उनके नाम और अन्य विवरण बांग्लादेश और भारत दोनों सरकारों को सौंपेंगे।

महिलाओं और बच्चों सहित कई बांग्लादेशी नागरिकों को अक्सर सीमा सुरक्षा बल और अन्य सुरक्षा बलों द्वारा पकड़ लिया जाता है, जब वे अनजाने में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पार करते हैं।

 

(आईएएनएस)