दैनिक भास्कर हिंदी: छत्तीसगढ़ के बीजापुर में 7 नक्सली ढेर, 6 रॉकेट लॉन्चर बरामद

April 27th, 2018

डिजिटल डेस्क, बीजापुर। महाराष्ट्र के गड़चिरोली के बाद नक्सलियों के खिलाफ छत्तीसगढ़ में भी बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। बीजापुर में ग्रेहाउंड कमांडोज ने शुक्रवार को 7 नक्सलियों को ढेर कर दिया। मारे गए नक्सलियों में 2 पुरुष और 5 महिलाएं हैं। नक्सलियों के पास से 6 रॉकेट लॉन्चर बरामद किए गए हैं। साथ ही हथियार, 7 राइफल्स और गोला बारूद भी बरामद किया गया है। गड़चिरोली में 37 नक्सलियों को ढेर करने के बाद छत्तीसगढ़ का ये एनकाउंटर हौसला बढ़ाने वाला है।

 

 

 

कल ही अबूझमाड़ में 60 नक्सलियों ने किया है सरेंडर

 

गुरुवार को ही अबूझमाड़ में सक्रिय 60 नक्सलियों ने नारायणपुर में बस्तर आईडी विवेकानंद सिन्हा के सामने सरेंडर किया है। 40 पुरुष और 20 महिलाओं ने इसलिए नक्सलवाद की राह छोड़ दी क्योंकि वो नक्सली विचारधारा और उनके काम करने के तरीके से तंग आ गए थे।

 

गड़चिरोली में मिली थी बड़ी कामयाबी

 

बीते 22 अप्रैल को महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ राज्य की सीमा से लगे भामरागढ़ तहसील में कसनापुर-बोरिया जंगल क्षेत्र में सुरक्षा बलों को नक्सलियों के खिलाफ बड़ी कामयाबी मिली थी। दो ऑपरेशन में 37 नक्सली ढेर किए गए थे। इनमें से 11 के शव इंद्रावती नदी में मिले थे। सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे जाने वाले नक्सलियों में दो डिविजनल कमांडर-साईनाथ और श्रीनू भी शामिल थे। दोनों पर राज्य सरकार ने 16-16 लाख रुपए का इनाम घोषित कर रखा था। साईनाथ के खिलाफ जिले के विभिन्न थानों में 75 तो वहीं श्रीनू के खिलाफ 82 मामले दर्ज किए गए थे। 48 घंटे में गड़चिरोली जिला पुलिस ने नक्सलियों की कमर तोड़ते हुए कुल 37 नक्सलियों को मारने में सफलता अर्जित की। ये पूरे देश में नक्सलियों के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी सफलता है।


छत्तीसगढ़ के बड़े नक्सली हमले

 

- 13 मार्च 2018 को नक्सलियों ने आईईडी विस्फोट कर एंटी लैंड माइन व्हीकल को उड़ा दिया था। इसमें 9 जवान शहीद और 3 गंभीर रूप से घायल हो गए थे।
- 24 अप्रैल 2017 को सुकमा के दोरनापाल में सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन रोड ओपनिंग पार्टी के रूप में निकली थी। नक्सलियों ने एंबुश में फंसा हमला कर दिया जिसमें 25 जवान शहीद हो गए और 7 घायल हो गए।
- 11 मार्च 2017 मार्च को नक्सलियों ने सीआरपीएफ की 219वीं बटालियन को निशाना बनाया था जिसमें 11 जवान शहीद हो गए थे।
- मार्च 2017 में बस्तर में हुए नक्सली हमले में CRPF की 219वीं बटालियन के जवान शहीद हो गए थे।
- अप्रैल 2015 में छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले में नक्सलियों के बिछाए बारूदी सुरंग के फटने से सुरक्षा बल के 4 जवान शहीद हो गए जबकि 8 घायल हो गए थे।
- 12 अप्रैल 2014 को छत्तीसगढ़ के बस्तर में नक्सली हमला हुआ था जिसमें 5 जवान शहीद हो गए थे और 14 लोगों की मौत हो गई थी।
- 11 मार्च 2014 को झीरम घाटी में फिर हमला हुआ था जिसमें 14 जवान शहीद हो गए थे।
- 25 मई 2013 झीरम घाटी में नक्सलियों ने कांग्रेस पार्टी के परिवर्तन यात्रा पर हमला किया था। जिसमें कांग्रेस के शीर्ष नेताओं सहित 30 से ज्यादा लोग मारे गए थे।
- 6 अप्रैल 2010 को छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सबसे बड़ा नक्सली हमला हुआ था जिसमें 76 जवान शहीद हो गए थे।

 

छत्तीसगढ़ है नक्सलियों का गढ़

 

छत्तीसगढ़, विशेष तौर पर बस्तर नक्सलियों का ऐसा गढ़ है, जहां से अपनी करतूतों को अंजाम देकर नक्सली सरकार को ललकारते रहते हैं। बीच-बीच में बड़े हमले कर नक्सली लोगों में खौफ और सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश करते रहते हैं, लेकिन नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षाबलों की लड़ाई बेखौफ जारी है।