कोविड -19 महामारी : फाइजर एंटी-वायरल से इलाज कराने वाले 92 फीसदी रोगियों का स्वास्थ्य हुआ बेहतर

January 19th, 2022

हाईलाइट

  • कड़वे और बुरे स्वाद का अनुभव

डिजिटल डेस्क, जेरूसलम। फाइजर की एंटीवायरल दवा पैक्सलोविड लेने वाले 90 फीसदी से अधिक कोविड रोगियों में तीन दिनों के भीतर महत्वपूर्ण सुधार देखा गया है। जेरूसलम पोस्ट ने बताया कि इजरायल की मैकाबी हेल्थकेयर सर्विसेज की रिपोर्ट से पता चला है कि पैक्सलोविड प्राप्त करने वाले 60 प्रतिशत लोगों ने पहले दिन के भीतर बेहतर महसूस करना शुरू कर दिया था।

मैकाबी डिवीजन की प्रमुख डॉ. मिरी मिजराही रेवेनी ने कहा हम किसी को भी, जो कोविड से बीमार हो गए हैं और जो इस दवा के साथ इलाज के लिए उपयुक्त पाए जाते हैं, उन्हें इसे लेने और उस गंभीर बीमारी से बचने की सलाह देते हैं, जिससे अस्पताल में भर्ती होने की संभावना होती है और यहां तक कि मौत भी हो सकती है। उन्होंने कहा सर्वेक्षण के परिणाम उपचार की गुणवत्ता, इसकी प्रभावशीलता और कोरोनोवायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई के दौरान और विशेष रूप से वर्तमान लहर के बीच में महत्व को इंगित करते हैं। इजरायल ने तीन जनवरी को इस दवा को देना शुरू किया था।

उपचार में पांच दिनों के लिए दिन में दो बार तीन गोलियां लेना शामिल है। इसे जितनी जल्दी हो सके, लेना शुरू करना होता है और रोगी के पहले लक्षण दिखाने के पांच दिनों के बाद इसे लेने की सलाह नहीं दी जाती है। यह हल्के से मध्यम स्थिति वाले व्यक्तियों के लिए दी जाती है, जिन्हें गंभीर बीमारी होने का उच्च जोखिम हो। फाइजर के क्लिनिकल परीक्षण के आंकड़ों से पता चला है कि जब पहले लक्षणों के तीन दिनों के भीतर उपचार शुरू किया गया था, तो अस्पताल में भर्ती होने और मौतों में प्लेसबो की तुलना में 89 प्रतिशत की गिरावट आई थी।

सर्वेक्षण में, लगभग 62 प्रतिशत प्रतिभागियों ने कहा कि वे साइड इफेक्ट से पीड़ित हैं। इनमें से एक तिहाई ने कड़वे और बुरे स्वाद का अनुभव किया, जबकि 18 प्रतिशत को दस्त थे, 11 प्रतिशत ने स्वाद या गंध में कमी की सूचना दी। इसके अलावा 7 प्रतिशत ने मांसपेशियों में दर्द का अनुभव किया और 4 प्रतिशत ने सिरदर्द का अनुभव किया। रिपोर्ट में कहा गया है कि अब तक पैक्सलोविड प्राप्त करने वाले किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। पिछले सप्ताह तक इजरायल के स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, लगभग एक तिहाई रोगियों ने उपचार से मना कर दिया। दवा लेने वाले 1,623 की तुलना में 753 लोगों ने इलाज से इनकार किया। मेहेडेट हेल्थ मेंटेनेंस ऑर्गनाइजेशन के आंकड़ों का सुझाव है कि इलाज से इनकार करने वालों की एक बड़ी संख्या बिना टीकाकरण वालों की भी हो सकती है, जिसे एक उच्च जोखिम कारक भी माना जाता है।

 

(आईएएनएस)