दैनिक भास्कर हिंदी: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राहुल गांधी को बताया मसखरा राजकुमार

September 20th, 2018

हाईलाइट

  • वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक ब्लॉग के जरिए कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी पर निशाना साधा है।
  • वित्त मंत्री ने राहुल को 'मसखरा राजकुमार (क्लाउन प्रिंस)' बताते हुए राफेल और NPA पर लगातार झूठ बोलने का आरोप लगाया।
  • जेटली ने कहा कि राहुल उस रणनीति पर काम कर रहे हैं जहां एक झूठ बनाया जाता है और उसे बार-बार बोला जाता है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक ब्लॉग के जरिए कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी पर निशाना साधा है। वित्त मंत्री ने राहुल को 'मसखरा राजकुमार (क्लाउन प्रिंस)' बताते हुए राफेल और नॉन परफॉर्मिंग असेट्स (NPA) पर लगातार झूठ बोलने का आरोप लगाया। जेटली ने कहा कि राहुल उस रणनीति पर काम कर रहे हैं जहां एक झूठ बनाया जाता है और उसे बार-बार बोला जाता है।

जेटली ने लिखा 'मैंने राफेल सौदे पर 29 अगस्त, 2018 के अपने ब्लॉग में कांग्रेस के हर एक झूठ का खुलासा किया था। झूठ की इस कैंपेन को कांग्रेस प्रेसिडेंट लीड कर रहे हैं। उनकी रणनीति सरल है - झूठ बोलो और इसे बार-बार दोहराएं। मैंने राफेल को लेकर जो सवाल किए थे उस पर राहुल गांधी का अब तक कोई जवाब नहीं आया है। लोकतंत्र में जो झूठ पर निर्भर रहते हैं उन्हें पब्लिक लाइफ के लिए अनफिट माना जाता है। कई लोग झूठ के कारण राजनीति से बाहर हो गए है। लेकिन यह नियम स्पष्ट रूप से कांग्रेस पार्टी जैसे राजवंश संगठन पर लागू नहीं हो सकता है।'

यदि राफेल पहला बड़ा झूठ था तो दूसरा मोदी द्वारा 15 उद्योगपतियों के ढाई लाख करोड़ के लोन माफी को लेकर बोला गया झूठ है। इन दोनों आरोपों में राहुल गांधी का हर एक शब्द झूठा है। जेटली ने कहा कि ये राशि 2014 से पहले बैंकों द्वारा दी गई थीं। दूसरी बात, UPA सरकार ने डिफॉल्ट के बाद भी लोन देना बंद नहीं किया। जेटली ने कहा, UPA के लीडर कहते है कि जब उनकी पार्टी सत्ता से बाहर हुई तो NPA केवल 2.5 लाख करोड़ रुपए था। सच्चाई यह है कि वास्तव में NPA को कार्पेट के नीचे छिपाया गया था।

2015 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एक ऐसेट क्वालिटी रिव्यू किया था। इसमें पाया गया कि वास्तव में NPA 8.96 लाख करोड़ रुपए था और वास्तविक राशि को छिपाया गया था। जेटली ने कहा कि UPA सरकार ने NPA की रिकवरी के लिए कोई ठोस कदम भी नहीं उठाया। 2014-15 के बाद NPA इसलिए बढ़ा क्योंकि बकाया राशि पर ब्याज बढ़ रहा था। UPA सरकार ने कुछ डिफॉल्टर्स को दोबारा लोन दे दिया ताकि लोन डिफॉल्ट छिपा रहे। जेटली ने कहा एक अकाउंट तभी तक परफॉर्मिंग अकाउंट कहलाता है जब तक लेनदार मूलधन/ब्याज समय से जमा कर रहा हो। जब लेनदार बिना मूलधन चुकाए ब्याज देना बंद कर देता है तो उसे 90 दिन बाद NPA घोषित कर दिया जाता है। UPA के समय में कई अकाउंट्स को NPA नहीं घोषित किया गया।

जेटली ने कहा राहुल गांधी जी सच्चाई ये है कि आपकी सरकार ने बैंकों को लूटने की अनुमति दी। NDA की सरकार आने के बाद अब बैंक बकायदारों से वसूली कर रहे हैं। बार बार झूठ बोलकर आप वास्तविकता को नहीं बदल सकते हैं। किसी देनदार का एक भी रुपये माफ नहीं किया गया है। डिफॉल्टर्स की कंपनियों पर कार्रवाई की जा रही है। कुछ पर मुकदमा चलाया जा रहा है। इन सभी डफॉल्टर्स को 2014 के पहले लोन दिया गया था। अपने ब्लॉग के साथ जेटली ने कुछ डिफॉल्टर्स की सूची भी सांझा की। साथ ही ये भी बताया कि लोन रिकवरी की फिलहाल की क्या स्थिति है।

जेटली ने राहुल पर निशाना साधते हुए कहा कि आपने राफेल और एनपीए, दोनों पर झूठ बोला है। वित्त मंत्री ने कहा कि पब्लिक डिस्कोर्स एक गंभीर ऐक्टिविटी है और यह लाफ्टर चैलेंज नहीं है। जेटली ने राहुल द्वारा पीएम मोदी को गले लगाने पर भी तंज कसते हुए लिखा कि पब्लिक डिस्कोर्स को आप गले लगने, आंख मारने या इस तरह के लगातार झूठ बोलने तक सीमित नहीं कर सकते हैं।