comScore

अरुण जेटली की हालत बेहद नाजुक, एम्स में ECMO और IABP सपोर्ट पर


हाईलाइट

  • जेटली से मिलने वालों का लगा तांता
  • नीतीश कुमार और मायावती भी पहुंचे
  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी पहुंचे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत बेहद नाजुक बनी हुई है, पक्ष और विपक्ष के नेताओं का दिल्ली के एम्स में आना-जाना लगा हुआ है। एम्स के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कार्डियो-न्यूरो सेंटर में अरुण जेटली की हालत नाजुक बनी हुई है, उन्हें एक्स्ट्राकोर्पोरियल मेंब्रेन ऑक्सिजनेशन (ECMO) और इंट्रा-एओर्टिक बैलून पंप (IABP) सपोर्ट दिया जा रहा है।

पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के दिग्गज नेता अरुण जेटली की हालत नाजुक है, वह दिल्ली के ऑल इंडिया मेडिकल साइंस (एम्स) अस्पताल में भर्ती हैं, उनसे मिलने के लिए नेताओं का तांता लगा हुआ है, केंद्रीय मंत्रियों के अलावा विपक्षी पार्टियों के नेता भी उनका हालचाल जानने आ रहे हैं। आज (रविवार) जेटली से मिलने के लिए संघ प्रमुख मोहन भागवत और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पहुंचे थे। अरुण जेटली को लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है। अरविंद केजरीवाल ने अरुण जेटली के परिजनों से हाल-चाल लिया। 

विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने ट्वीट किया, 'देश के प्रख्यात विधिवेत्ता, राजनेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रभु से कामना करते हैं.'

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, पीयूष गोयल, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन सिंह, जितेंद्र सिंह, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और बसपा चीफ मायावती भी दिल्ली एम्स पहुंचकर उनके स्वास्थ्य की जानकारी ले चुकी हैं। गृहमंत्री अमित शाह के अलावा यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी शुक्रवार को जेटली का हाल जानने पहुंचे थे। विपक्ष की नेता मायावती जेटली को देखने बसपा के दिग्गज नेता सतीश चंद्र मिश्रा के साथ पहुंचे थे। 

दरअसल, मई 2018 में जेटली का किडनी प्रत्यारोपण हुआ था, इसके बाद जेटली के बाएं पैर में सॉफ्ट टिशू कैंसर हो गया, जिसकी सर्जरी के लिए वह इस साल की शुरुआत में अमेरिका भी गए थे, तबीयत खराब होने के कारण ही उन्होंने 2019 का आम चुनाव नहीं लड़ा था और मंत्रिमंडल में शामिल होने से भी इनकार कर दिया था।

कमेंट करें
XyVse
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।