शीतकालीन सत्र: निलंबित सांसदों के प्रदर्शन के विरोध में भाजपा सांसदों ने भी निकाला पैदल मार्च

December 4th, 2021

हाईलाइट

  • विपक्ष के विरोध में सत्ता का विरोध

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। गांधी प्रतिमा पर धरना दे रहे विपक्षी दलों के सांसदों के विरोध में शुक्रवार को भाजपा सांसदों ने गांधी प्रतिमा से लेकर बाबा साहेब अंबेडकर की मूर्ति तक पैदल मार्च निकाला।

आईएएनएस से बात करते हुए पैदल मार्च में शामिल भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं सांसद अरुण सिंह ने कहा कि इन सांसदों ने सदन में अपने व्यवहार से देश को शर्मसार किया और अब माफी मांगने की बजाय वो अपने व्यवहार पर गर्व जाहिर कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम अहिंसा , सद्भाव और अच्छे आचरण की प्रेरणा पूरे देश को देने वाले बापू महात्मा गांधी और संविधान निर्माता बाबा साहेब अंबेडकर की प्रतिमा के सामने प्रार्थना कर रहे हैं कि भगवान विपक्ष को सद्बुद्धि दे ताकि वो माफी मांगकर अच्छे आचरण के साथ आगे सदन की कार्यवाही में भाग लें।

अरुण सिंह ने कहा कि ऐसा आचरण अगर स्कूल के बच्चे भी करते तो उन्हें स्कूल से निकाल दिया जाता। इसी आचरण की वजह से तो देश की जनता उन्हें खारिज करती जा रही है।  आईएएनएस से बात करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा सांसद शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि उनके व्यवहार की वजह से पीठ ने उन्हें निलंबित किया है और इसका सरकार से कोई लेना देना नहीं है। पीठ का निर्णय बिल्कुल सही है। सत्ता पक्ष लोकतांत्रिक है और विपक्ष अलोकतांत्रिक व्यवहार कर रहा है इसलिए उनके व्यवहार के विरोध में हमने यह मार्च निकाला है।

मार्च निकालने के लिए जब भाजपा सांसद गांधी प्रतिमा पर पहुंचे तो वहां पहले से मौजूद विपक्षी सांसदों ने नारेबाजी तेज कर दी और कुछ समय तक दोनों पक्षों की तरफ से जमकर नारेबाजी हुई

 

( आईएएनएस )