दैनिक भास्कर हिंदी: गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर लौटे भारत, US में करीब ढाई महीनों से चल रहा था इलाज

June 14th, 2018

हाईलाइट

  • देश के पूर्व रक्षामंत्री और गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर गुरुवार को भारत लौट आए।
  • पर्रिकर का पिछले करीब ढाई महीनों से अमेरिका में पेंक्रियाज संबंधित बीमारी का इलाज चल रहा था।
  • पर्रिकर की अनुपस्थिति में कैबिनेट मंत्रियों की तीन सदस्यीय सलाहकार समिति सरकार के दिन-प्रतिदिन के मामलों को देख रही थी।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश के पूर्व रक्षामंत्री और गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर गुरुवार को भारत लौट आए। पर्रिकर का पिछले करीब ढाई महीनों से अमेरिका में पेंक्रियाज संबंधित बीमारी का इलाज चल रहा था। मुख्यमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि पर्रिकर अमेरिका से मुंबई पहुंचे और उसके बाद दूसरी उड़ान से पणजी पहुंचे। बता दें कि पर्रिकर की अनुपस्थिति में कैबिनेट मंत्रियों की तीन सदस्यीय सलाहकार समिति सरकार के दिन-प्रतिदिन के मामलों को देख रही थी।

 

 

पर्रिकर ने अमेरिका से भेजा था वीडियो संदेश
इससे पहले मनोहर पर्रिकर ने अमेरिका से अपना एक वीडियो संदेश भेजा था। पर्रिकर ने अपने इस संदेश में कहा था कि वह कुछ सप्ताह में भारत लौट आएंगे। वहीं वीडियो संदेश में पर्रिकर ने बीजेपी कार्यकर्ताओं से कहा था कि पिछले दो महीनों से मैं आप सभी के बीच नहीं हूं क्योंकि मैं इलाज करा रहा हूं। मैं अगले कुछ हफ्तों में गोवा वापस लौट आऊंगा। खराब स्वास्थ्य के कारण मैं पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में शामिल नहीं हो सका। पर्रिकर ने कार्यकर्ताओं को 2019 लोकसभा चुनावों के लिए तैयार करने के लिए प्रोत्साहित किया और कहा कि देश को फिर से प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी की जरूरत है। पर्रिकर का यह संदेश भाजपा कार्यकर्ताओं को दिखाया गया था।

 

 

पेंक्रियाज संबंधित बीमारी से जूझ रहे थे पर्रिकर
बता दें कि सीएम मनोहर पर्रिकर (62) पेंक्रियाज से संबंधित बीमारी से जूझ रहे थे। 15 फरवरी को पेटदर्द की शिकायत के बाद उन्हें गोवा के मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में एडमिट किया गया था, लेकिन बाद में डॉक्टर्स की सलाह पर उन्हें मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल ले जाया गया। 22 फरवरी को उन्हें छुट्टी दी गई। इसके बाद उन्होंने यहां पहुंचकर राज्य का बजट पेश किया था। मीडिया में ये खबर भी सामने आई थी कि पर्रिकर को पैंक्रियाटिक कैंसर है। हालांकि, अस्पताल ने 18 फरवरी को स्टेटमेंट जारी कर इसे अफवाह करार दिया था। बाद में पर्रिकर अमेरिका में इलाज के लिए चले गए थे।