comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस ने 162 की पावर दिखाकर भरी हुंकार, विधायकों को दिलाई शपथ 


हाईलाइट

  • संजय राउत राज्यपाल से ट्वीट कर बोले आएं और देखें हम कितने हैं
  • सुप्रीम कोर्ट अब मंगलवार सुबह 10.30 बजे फैसला सुनाएगी
  • शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने अपने विधायकों के हस्ताक्षर पत्र तैयार किए

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र में सियासी पारा अपने उच्च्तम स्तर पर है। यहां पल-पल में राजनीतिक घटनाक्रम बदल रहा है। सोमवार सुबह सुप्रीम कोर्ट में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की याचिका पर सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट अब महाराष्ट्र मुद्दे पर मंगलवार सुबह 10.30 बजे फैसला सुनाएगी। इससे पहले तीनों दलों के 162 विधायकों ने मुंबई के एक पांच सितारा होटल में इकट्ठा होकर अपनी ताकत दिखाई। इस मौके पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण और एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने संबोधित किया। 

इस दौरान महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए होटल ग्रैंड हयात में इकट्ठा हुए विधायकों को शपथ दिलाई। "मैं यह शपथ लेता हूं कि शरद पवार, उद्धव ठाकरे और सोनिया गांधी के नेतृत्व में, मैं अपनी पार्टी में रहूंगा। मुझे किसी चीज का लालच नहीं होगा। मैं ऐसा कुछ नहीं करूंगा, जिससे भाजपा को फायदा हो।" इसके बाद यहां फोटो सेशन भी किया गया। इस फोटो सेशन का उद्देश्य महाराष्ट्र में सरकार के गठन के लिए राज्यपाल को बहुमत की संख्या दिखाना था।

#WATCH Mumbai: Shiv Sena-NCP-Congress MLAs assembled at Hotel Hyatt take a pledge, "I swear that under the leadership of Sharad Pawar, Uddhav Thackeray & Sonia Gandhi, I will be honest to my party. I won't get lured by anything. I will not do anything which will benefit BJP". pic.twitter.com/CV8VhOmKl1

— ANI (@ANI) November 25, 2019

Mumbai: Shiv Sena-NCP-Congress MLAs assembled at Hotel Grand Hyatt take a pledge, "I swear that under the leadership of Sharad Pawar, Uddhav Thackeray & Sonia Gandhi, I will be honest to my party. I won't get lured by anything. I will not do anything which will benefit BJP." pic.twitter.com/WBZyMHlYx2

— ANI (@ANI) November 25, 2019

इस मौके पर NCP प्रमुख शरद पवार ने विधायकों को संबोधित करते हुए कहा कि हम यहां महाराष्ट्र के लोगों के लिए एक साथ आए हैं। राज्य में बहुमत के बिना एक सरकार का गठन किया गया था। कर्नाटक, गोवा और मणिपुर, भाजपा के पास कहीं भी बहुमत नहीं था, लेकिन सरकार बनाई। NCP प्रमुख शरद पवार ने कहा कि हमें बहुमत साबित करने में कोई समस्या नहीं होगी। जो (अजित पवार) पार्टी से निलंबित है, वह कोई आदेश नहीं दे सकता है। फ्लोर टेस्ट के दिन, मैं 162 से अधिक विधायकों को लाऊंगा। यह गोवा नहीं है, यह महाराष्ट्र है।

NCP Chief Sharad Pawar at Hotel Grand Hyatt in Mumbai where Shiv Sena-NCP-Congress MLAs have assembled: We are here together for people of Maharashtra. A govt was formed in state without majority. Karnataka, Goa, & Manipur, BJP didn't have majority anywhere but formed government. pic.twitter.com/Nyu96fXIgB

— ANI (@ANI) November 25, 2019

NCP Chief Sharad Pawar: There will not be any problem in proving our majority. The one who is suspended from the party cannot give any orders. On the day of floor test, I will bring more than 162 MLAs. This is not Goa, this is Maharashtra. #Mumbaihttps://t.co/f3Bb4n50dR

— ANI (@ANI) November 25, 2019

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमारी लड़ाई सिर्फ सत्ता के लिए नहीं है, हमारी लड़ाई 'सत्यमेव जयते' के लिए है। जितना आप हमें तोड़ने की कोशिश करेंगे, उतना ही हम एकजुट होंगे।

Shiv Sena's Uddhav Thackeray at Hotel Grand Hyatt in Mumbai where Shiv Sena-NCP-Congress MLAs have assembled: Our fight is not just for power, our fight is for 'Satyamev Jayate.' The more you try to break us, the more we will unite. #Maharashtrapic.twitter.com/q7gXFMRE2C

— ANI (@ANI) November 25, 2019

कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि हम 162 से ज्यादा नहीं, सिर्फ 162 हैं। हम सभी सरकार का हिस्सा होंगे मैं सोनिया गांधी को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने भाजपा को रोकने के लिए इस गठबंधन की अनुमति दी। गवर्नर को हमें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करना चाहिए।

Congress leader Ashok Chavan at Hotel Grand Hyatt in Mumbai where Shiv Sena-NCP-Congress MLAs have assembled: We are more than 162, not just 162. We all will be a part of the govt. I thank Sonia Gandhi who allowed for this alliance to stop BJP. Guv should invite us to form govt. pic.twitter.com/NaHL74c5If

— ANI (@ANI) November 25, 2019


NCP के नए विधायक दल के नेता जयंत पाटिल ने कहा कि मुझे विश्वास है कि फ्लोर टेस्ट में, ये सभी 162 विधायक महाराष्ट्र की वर्तमान सरकार के खिलाफ मतदान करेंगे। फिर, नई सरकार बनेगी।

Jayant Patil, NCP: I am confident that in the floor test, all these 162 MLAs will vote against the present government of Maharashtra. Then, a new government will be formed. pic.twitter.com/Jkyp5tiIaX

— ANI (@ANI) November 25, 2019

शिवसेना विधायक अब्दुल सत्तार ने कहा है कि आज हमारे साथ 162 विधायक हैं। अगर भाजपा के पास हैं तो उन्हें बताना चाहिए। जो तोड़-फोड़ का प्रयास करेगा, हम उसकी मुंडी तोड़ देंगे।

Abdul Sattar, Shiv Sena MLA: Aaj hamare sath 162 MLAs hai, agar BJP ke paas hai toh unhe batana chahiye. Jo torh-forh ka prayas karega hum uski mundi torh denge. #Maharashtrapic.twitter.com/03tMMCP7Qi

— ANI (@ANI) November 25, 2019

NCP नेता नवाब मलिक ने कहा कि भाजपा के पास अभी भी अपना सम्मान बचाने का मौका है। भाजपा अगर तोड़-फोड़ पर उतर आई है तो हम भी उसका जवाब देंगे। अजीत पवार हमारी पार्टी का हिस्सा हैं, वे पवार परिवार का हिस्सा हैं। हम कोशिश कर रहे हैं कि वे NCP में वापस आए और अपनी गलती स्वीकार करें।

NCP's Nawab Malik: BJP still has a chance to save its honour. Thorh forh par agar uttar aai BJP toh hum bhi uska jawab denge. Ajit Pawar is a part of our party, he is part of the Pawar family. We are trying that he comes back to NCP & admits his mistake. #Maharashtrapic.twitter.com/GWWFwExH9F

— ANI (@ANI) November 25, 2019

इससे पहले संजय राउत ने ट्वीट किया था कि हम सब एक हैं और एक साथ हैं। हमारे सभी 162 विधायकों को पहली बार एक साथ देखें, आज शाम सात बजे मुंबई के ग्रैंड हयात होटल में। आएं और खुद देखें महाराष्ट्र के राज्यपाल।

उधर आज शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने अपने विधायकों का हस्ताक्षर पत्र तैयार किया। एनसीपी विधायक दल के नेता जयंत पाटिल ने आज राजभवन जाकर राज्यपाल से मुलाकात की दावा किया कि हमारे पास 162 विधायक हैं और उन्हें एक पत्र सौंपा। जयंत पाटिल के साथ शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे, कांग्रेस नेता बाला साहेब थोराट, अशोख चव्हाण सहित अन्य नेताओं ने आज राज्यपाल से मुलाकात की और 162 विधायकों के समर्थन का दावा किया।

कमेंट करें
Rd1pt
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।