comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Coronavirus in India: देश में पिछले 24 घंटों में 12 लोगों की मौत, तेलंगाना सरकार ने किया 6 मौत का खुलासा, मृतकों की संख्या 43 हुई

Coronavirus in India: देश में पिछले 24 घंटों में 12 लोगों की मौत, तेलंगाना सरकार ने किया 6 मौत का खुलासा, मृतकों की संख्या 43 हुई

हाईलाइट

  • कोरोना के कारण भारत में मरने वालों की संख्या 37 हुई
  • देश में कोरोना वायरस से 1318 लोग संक्रमित हो चुके हैं

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोना वायरस का कहर देश में भी लगातार बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटों के अंदर यहां 12 लोगों ने अपनी जान गवाई है और 121 नए कोविड-19 पॉजिटिव मिले हैं। इसके साथ ही कोरोना के कारण भारत में मरने वालों की संख्या 43 हो गई है और 1347 लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं अब तक 137 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। जबकि 1167 लोगों का उपचार किया जा रहा है। 

तेलंगाना सरकार ने किया 6 मौत का खुलासा
तेलंगाना सरकार ने सोमवार को कोरोना वायरस के कारण हुई मौतों का खुलासा किया है। सरकार ने कोरोना वायरस के कारण 6 मौतों की जानकारी दी है। सरकार ने बताया कि इन सभी मौत कोरोना वायरस के कारण हुई। ये सभी 6 मृतक इसी महीने दिल्ली में निजामुद्दीन में हुए कार्यक्रम में पहुंचे थे। सरकार ने बताया कि कोरोना वायरस के कारण हुई इन 6 मौतों में से 2 की मौत गांधी अस्पताल में हुई। इसके अलावा बाकी लोगों में अपोलो अस्पताल में एक, ग्लोबल अस्पताल में एक, निजामाबाद में एक और गडवाल जिले में एक की मौत हुई है।

महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 10 लोगों की मौत
बता दें कि सोमवार को महाराष्ट्र में 2 लोगों की मौत हुई। पुणे में 52 साल के मरीज और मुंबई में 80 साल के बुजुर्ग ने दम तोड़ा दिया। इसके साथ ही यहां कोरोना से मरने वालों की संख्या 10 हो गई है। महाराष्ट्र में अब तक 220 लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं मध्यप्रदेश के इंदौर में 41 वर्षीय मरीज ने दम तोड़ा। राज्य में अब तक 4 जानें गई हैं, इनमें 2 इंदौर और 2 उज्जैन के निवासी थे। गुजरात के भावनगर में 45 वर्षीय महिला की जान गई। उसके कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि सोमवार को हुई। यहां अब तक 6 लोगों मौत इस वायरस से हो चुकी है। पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में रहने वाली 54 वर्षीय महिला की मौत संक्रमण से हो गई। वह हाल ही में चेन्नई से इलाज करवाकर लौटी थी। राज्य में कोरोना से यह दूसरी मौत है। इसके अलावा पंजाब में 55 वर्षीय महिला की मौत संक्रमण से मौत हुई। राज्य में कोरोना से यह तीसरी मौत है।

एक्शन मोड में दिल्ली सरकार
बता दें कि दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के सेंटर (मरकज) में 1 से 15 मार्च तक 5 हजार से ज्यादा लोग आए थे। इनमें इंडोनेशिया, मलेशिया और थाईलैंड के लोग भी शामिल थे। 22 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा के बाद भी यहां 2 हजार लोग ठहरे थे। इनमें से 200 लोगों के कोरोना संक्रमित होने की आशंका है। संदिग्धों को जांच के लिए अस्पताल भेजा गया है। यहां से 1200 लोगों को निकाला गया है। वहीं इतनी बड़ संख्या में भीड़ जुटाने को लेकर दिल्ली सरकार अब एक्शन मोड में नजर आ रही है। मरकज के मौलाना के खिलाफ केजरीवाल सरकार एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दे दिए हैं। 

किस राज्य में कब हुई संक्रमण से मौत

तारीख

मौतेंराज्यउम्र
11 मार्च

पहली मौत

कर्नाटक

76 साल

13 मार्चदूसरी मौतदिल्ली68 साल (महिला)
17 मार्च

तीसरी मौत

महाराष्ट्र63 साल (महिला)
18 मार्चचौथी मौत

पंजाब

70 साल
21 मार्च5वीं मौत

महाराष्ट्र

63 साल
21 मार्च

6वीं मौत

बिहार38 साल
22 मार्च7वीं मौतगुजरात67 साल
23 मार्च

8वीं मौत

बंगाल

57 साल

23 मार्च

9वीं मौत

हिमाचल68 साल
24 मार्च10वीं मौतमहाराष्ट्र65 साल
25 मार्च11वीं मौततमिलनाडु54 साल
25 मार्च12वीं मौतमध्यप्रदेश65 साल (महिला)
25 मार्च13वीं मौतगुजरात85 साल (महिला)
26 मार्च14वीं मौत

कश्मीर

65 साल 
26 मार्च15वीं मौतमहाराष्ट्र

65 साल

26 मार्च16वीं मौत

कर्नाटक

75 साल (महिला)
26 मार्च17वीं मौतराजस्थान

73 साल

26 मार्च18वीं मौत

गुजरात

70 साल
26 मार्च19वीं मौतराजस्थान60 साल
26 मार्च20वीं मौतमध्यप्रदेश

65 साल

27 मार्च21वीं मौत

कर्नाटक

65 साल
27 मार्च22वीं मौतमहाराष्ट्र65 साल (महिला)
28 मार्च23वीं मौत

केरल

69 साल
28 मार्च24वीं मौतगुजरात46 साल
28 मार्च25वीं मौतमहाराष्ट्र85 साल
28 मार्च26वीं मौततेलंगाना75 साल
29 मार्च

27वीं मौत

जम्मू-कश्मीर62 साल
29 मार्च28वीं मौतगुजरात45 साल
29 मार्च29वीं मौत

महाराष्ट्र

40 साल (महिला)
29 मार्च30वीं मौतमहाराष्ट्र

45 साल

29 मार्च31वीं मौत

पंजाब

62 साल
30 मार्च32वीं मौतबंगाल54 साल (महिला)
30 मार्च33वीं मौतगुजरात45 साल (महिला)
30 मार्च34वीं मौतमहाराष्ट्र52 साल
30 मार्च35वीं मौतमध्य प्रदेश41 साल
30 मार्च36वीं मौतमहाराष्ट्र80 साल
30 मार्च37वीं मौतपंजाब55 साल (महिला)
कमेंट करें
ejcw2
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।