दैनिक भास्कर हिंदी: केरल में बाढ़: 4 दिन कम बारिश होने की उम्मीद, शिविर में 7 लाख लोग

August 20th, 2018

हाईलाइट

  • केरल को इन दिनों कुदरत के कहर का सामना करना पड़ रहा है।
  • सदी की सबसे बड़ी त्रासदी का सामना कर रहे केरल में अब तक 370 लोग अपनी जान गवां चुके है।
  • मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में भारी बारिश से राहत का दावा जरूर किया है।

डिजिटल डेस्क, तिरुवनंतपुरम। केरल को इन दिनों कुदरत के कहर का सामना करना पड़ रहा है। सदी की सबसे बड़ी त्रासदी का सामना कर रहे केरल में अब तक 370 लोग अपनी जान गवां चुके हैं। सात लाख लोगों को शिविरों में रहना पड़ रहा है। मौसम विभाग ने चार दिनों तक बारिश से राहत का दावा किया है। मौसम विभाग का कहना है कि अगले 4 दिन तक केरल में बारिश की संभावना कम है। इसे देखते हुए रविवार शाम तक रेल सेवा बहाल होने की उम्मीद की जा रही है। केंद्र और राज्य सरकार बाढ़ प्रभावित इलाकों में लगातार राहत कार्य कर रही हैं। फूड प्रोसेसिंग मिनिस्ट्री ने 3 लाख से ज्यादा खाने का पैकेट लोगों तक पहुंचाए हैं। सूबे में बाढ़ के कारण 7,24,649 लोगों को राहत शिविरों में शरण लेनी पड़ी है। बाढ़ पीड़ितों के लिए 5,645 राहत शिविर बनाए गए हैं।

 

केरल के लोगों ने कुछ ऐसे अंदाज में सेना को बोला शुक्रिया 

 

 

 

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने केरल में 9,300 किलोलीटर केरोसिन उपलब्ध कराया है। इसके अलावा 12,000 किलोलीटर अतिरिक्त केरोसिन भी दिया जाएगा। कोच्चि में एलपीजी बोटलिंग प्लांट को भी फिर से खोल दिया गया है। भारत सरकार की तरफ से बताया गया है कि खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग ने 50,000 मिलियन टन (एमटी) अनाज प्रदान किया है। कंज्यूमर अफेयर डिपार्टमेंट ने 100 मेट्रिक टन दाल को हवाई जहाज के जरिए पहुंचाने की व्यवस्था की है। अनाज की अतिरिक्त मात्रा को ट्रेन के जरिए भेजा जा रहा है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय सोमवार को 60 टन इमरजेंसी मेडिसिन एयरलिफ्ट करेगी। 14 लाख लीटर पानी लेकर स्पेशल ट्रेन और 8 लाख लीटर पानी लेकर नेवी का शिप केरल पहुंच रहा है।

 

 


त्रिवेंद्रम और एर्नाकुलम से कोलकाता के लिए सोमवार को दो स्पेशल ट्रेन चलाई जाएगी। राज्य परिवहन विभाग की और से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि पश्चिम बंगाल सरकार के आग्रह पर दक्षिण पूर्व रेलवे दो विशेष ट्रेन रवाना करेगी। बाढ़ की वजह से परिवहन सेवा बुरी तरह प्रभावित होने से केरल में पश्चिम बंगाल के कई पर्यटक और वहां काम करने वाले अन्य लोग फंस गए हैं। वहीं सभी लाइनों पर ट्रेन सेवाओं को कल शाम तक सभी लाइनों पर बहाल होने की उम्मीद है।

 

 


महाराष्ट्र सरकार ने राहत सामग्री में फूड पैकेट, सूखे अनाज, कंबल, सैनिटरी नैपकिन और अन्य आवश्यक वस्तुएं केरल भेजी हैं। भारतीय तट रक्षक बल का एक पोत मुंबई से केरल के बाढ़ पीड़ितों के लिए 65 टन राहत सामग्री लेकर रवाना हुआ है। तट रक्षक बल के पश्चिमी क्षेत्र के प्रवक्ता ने बताया कि संकल्प नाम के पोत से विभिन्न गैर सरकारी संगठनों और महाराष्ट्र सरकार की ओर से भी राहत सामग्री भेजी गई है। जिसके सोमवार सुबह कोच्चि बंदरगाह पहुंचने की संभावना है।

 

 

 

खबरें और भी हैं...