comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

दिल्ली : 9 साल से कब्र में दफन कत्ल के राज को खोद लाई पुलिस

October 07th, 2019 18:00 IST
 दिल्ली : 9 साल से कब्र में दफन कत्ल के राज को खोद लाई पुलिस

नई दिल्ली, 7 अक्टूबर (आईएएनएस)। समाज की नजरों में उसने अग्नि को साक्षी मानकर जिंदगी भर पति का साथ निभाने का वायदा तो कर लिया था, लेकिन ऐसा करते वक्त वह भूल गई थी कि जब वह पहले वाले की ही सगी नहीं हुई, तो फिर वह दूसरे की भी भला सगी कैसे हो जाएगी! उसकी एक इसी छोटी-सी गलती ने दो खानदानों को बर्बाद कर दिया। इतना ही नहीं, उसके खुद के माथे पर भी एक उम्र के लिए हत्यारिन पतिहंता का कलंक भी लग गया। क्योंकि पुलिस इस बार भी कातिल से काबिल निकली, और खोद लाई सैकड़ों मील दूर कई फुट गहरी कब्र में दफन मौत के राज को, पूरे 9 साल बाद।

यह जानकारी दिल्ली पुलिस अपराध शाखा के उपायुक्त जॉय टिर्की ने सोमवार को आईएएनएस को दी। उन्होंने आईएएनएस को बताया, दरअसल, इस पूरी कहानी की फिल्म-सी दिखाई पड़ने वाली पटकथा, प्यार-अविश्वास और धोखे पर आधारित असली कहानी है। रूह कंपा देने वाली इस पटकथा के प्रमुख पांच किरदार निकल कर सामने आए। पहला रवि कुमार, जो अब इस दुनिया में नहीं है। रवि कुमार दिल्ली के समालखा का रहने वाला था। दूसरा जय भगवान यानी रवि का पिता। तीसरी महिला पात्र शकुंतला, चौथा पात्र कमल सिंगला और पांचवां व अंतिम पात्र गणेश कुमार।

डीसीपी जॉय टिर्की के अनुसार, 22 मार्च, 2011 को यानी अब से करीब नौ साल पहले एक दिन जय भगवान का 22 साल का पुत्र रवि कुमार पत्नी शकुंतला के साथ घर से निकल जाता है। समालखा में ही रहने वाले अपने साढ़ू (शकुंतला की बहन का पति) से मिलने। घर वापस अकेली शकुंतला लौटती है। वह बताती है कि उसका पति रवि कुमार पांच मिनट में किसी से मिलकर लौट आने की बात कहकर घर से बाहर गया था। तब से जब काफी इंतजार के बाद भी नहीं लौटा तो वह वापस ससुराल (पति रवि कुमार के घर) चली आई।

अगले दिन 23 मार्च, 2011 को जय भगवान बेटे रवि के गायब हो जाने का शिकायत दर्ज करवा देते हैं। उसके बाद जय भगवान कुछ वक्त इंतजार करके बेटे के अपहरण का मामला एफआईआर नंबर 64/11 दिनांक 16 अप्रैल, 2011 को थाना कापसहेड़ा में दर्ज करवा देते हैं।

अक्टूबर 2011 में मामले की जांच जिला पुलिस से छीनकर क्राइम ब्रांच को दे दी जाती है। अपराध शाखा ने जब फाइलें खंगाली तो शुरू से ही उसकी नजर में शकुंतला करकने लगी। अपराध शाखा की नजर में शकुंतला का भाई राजू, राजू का दोस्त कमल सिंगला (कमल सिंगला शकुंतला का बॉयफ्रेंड भी था) भी चढ़ा हुआ था।

डीसीपी टिर्की के मुताबिक, रवि कुमार का शव बरामद नहीं हुआ था। संदिग्ध तमाम कोशिशों के बाद भी अपराध कबूलने को राजी नहीं थे। लिहाजा संदिग्धों पर नजर रखने के लिए सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) सुरेंद्र कुमार गुलिया के नेतृत्व में इंस्पेक्टर अमलेश्वर राय, सब इंस्पेक्टर करमवीर सिंह, एएसआई जयवीर सिंह, नरेश कुमार और सिपाही हरेंद्र की टीम बना दी गई।

डीसीपी ने बताया कि कानूनी तौर-तरीकों का ख्याल रखते हुए 2017 में राजू और उसके दोस्त कमल सिंगला (शकुंतला के बॉयफ्रेंड) का गुजरात स्थित प्रयोगशाला में ब्रेन-मैपिंग टेस्ट कराया। ब्रेन-मैपिंग टेस्ट की रिपोर्ट चौंकाने वाली थी।

ब्रेन मैपिंग रिपोर्ट से खुलासा हुआ कि अलवर में पड़ोस में रहने वाली शकुंतला को, कमल सिंगला ने ही कहा था कि वह रवि कुमार से शादी करने बाद भी शारीरिक संबंध उससे न बनाए। कमल ने ही शुकंतला को उसके पति रवि के साथ, कमलेश (शकुंतला की बहन) के घर भेजा था। ताकि रवि का अपहरण आसानी से हो जाए और किसी को भी शकुंतला पर शक न हो।

मौका मिलने पर रवि को उसके साढ़ू के घर में कमल सिंगला ने नशीली चाय पिला दी। जब रवि पूरी तरह बेसुध हो गया तब उसका गला कमल सिंगला ने दबा दिया। रवि की लाश को राजस्थान के अलवर में ले जाकर साढ़े पांच फुट गहरी कब्र में दफना दिया गया था। जहां लाश दफनाई गई, वहीं बराबर में मुख्य हत्यारोपी कमल सिंगला की दुकान है।

डीसीपी टिर्की के अनुसार, जांच में सबसे काम की चीज पुलिस को तब मिली जब, ब्रेन मैपिंग के बाद से ही शकुंतला और कमल सिंगला गायब हो गए। 27 सिंतबर, 2019 को मुखबिर से मिली जानकारी के आधार पर कमल, शालीमार कॉलोनी, अलवर, राजस्थान से पकड़ा गया। तीन अक्टूबर को क्राइम ब्रांच ने कमल सिंगला के चालक गणेश को भी समस्तीपुर बिहार से पकड़ लिया।।

पांच अक्टूबर को कमल सिंगला और गणेश ने दिल्ली से सैकड़ों मील दूर अलवर में कब्र में नौ साल से दफन रवि कुमार की लाश बरामद करा दी। एसडीएम की मौजूदगी में पुलिस ने जब कब्र खुदवाई तो वहां लाश के नाम पर 25 हड्डियां बरामद हुईं। कब्र खोदने की दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने वीडियो भी बनवाई है। कमल सिंगला के अलवर स्थित मकान के पास ही शादी से पहले शकुंतला रहती थी। तभी से दोनों में अवैध संबंध थे।

-- आईएएनएस

कमेंट करें
VgPDZ
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।