दैनिक भास्कर हिंदी: केजरीवाल से मिलने आए थे 4 सीएम, परमिशन नहीं मिली तो LG पर भड़के

June 17th, 2018

हाईलाइट

  • दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के समर्थन में अब चार राज्य के मुख्यमंत्री आ गए हैं।
  • शनिवार को पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, केरल के सीएम पिनराई विजयन, कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी और आंध्रप्रदेश के सीएम एन चंद्रबाबु नायडू दिल्ली पहुंचे।
  • ममता बनर्जी ने कहा, नीति आयोग की बैठक में प्रधानमंत्री से इस मामले में बात करेंगे।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के समर्थन में अब चार राज्य के मुख्यमंत्री आ गए हैं। शनिवार को अरविंद केजरीवाल और उपराज्यपाल अनिल बैजल से मिलने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, केरल के सीएम पिनराई विजयन, कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी और आंध्रप्रदेश के सीएम एन चंद्रबाबु नायडू दिल्ली पहुंचे। इन चारों ने सीएम केजरीवाल के आवास पर जाकर उनके परिवार से भी मुलाकात की। 

पीएम के सामने उठाया जाएगा मामला
चारों ने अनिल बैजल को पत्र लिखकर उनसे मिलने के लिए 9 बजे का समय मांगा था, लेकिन कोई जवाब न आने के कारण ये चारों न तो केजरीवाल से मिल सके न ही एलजी से। इसके बाद चारों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस मामले को नीति आयोग की बैठक में पीएम के सामने उठाने की बात कही। बता दें कि सीएम अरविंद केजरीवाल अपने तीन मंत्रियों के साथ 6 दिनों से एलजी ऑफिस में अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे है।

क्या कहा ममता बनर्जी ने?
ममता ने कहा, 'हम सब एकता दिखाने के लिए केजरीवाल के घर आए हैं। कुछ मामले राजनीति से अलग होते हैं। विपक्षी पार्टी की भी मार्यादा होती है। कल हम लोग नीति आयोग की बैठक में प्रधानमंत्री से इस मामले में बात करेंगे। दिल्ली में जो हाल है, इससे गलत मैसेज जा रहा है। दिल्ली में जनमत का सम्मान होना चाहिए। यही हाल रहा तो चुनी हुई सरकारों का क्या भविष्य होगा?'

ममता ने कहा, 'हमने तीन-चार घंटे इंतजार किया, लेकिन उप राज्यपाल ने मिलने के लिए जवाब नहीं दिया। सामने लोकसभा का चुनाव है। आप जनता के सामने जाएं।' ममता बनर्जी ने कहा, 'दिल्ली में संवैधानिक संकट हो गया है। एलजी ने मिलने का वक्त नहीं दिया तो किसके पास जाएं। ये समस्या किसी के भी साथ हो सकती है। चार महीने से दिल्ली का काम बंद पड़ा है।'

 

 

क्या कहा चंद्रबाबू नायडू ने?
आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने कहा, 'हम लोग आज दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल का समर्थन करने आए हैं। उन्हें दिल्ली के लोगों ने चुना है उनकी मांगे मानी जानी चाहिए। केंद्र राज्य को साथ काम करना चाहिए। ममता बनर्जी ने LG से इजाजत मांगी, मगर नही दी गई। हम भारत सरकार और एलजी से अनुरोध करते हैं कि वह इस बारे में बात करें।'

 



क्या कहा पिनराई विजयन ने?
केरल के सीएम पिनराई विजयन ने कहा, 'केंद्र सरकार के ऐसे रवैये से ये सब कुछ हो रहा है। केंद्र फेडरल सिस्टम को रोक रही है ये देश के लिए एक बड़ा खतरा है। हम सब उनके (दिल्ली सीएम) साथ हैं। सभी डेमोक्रेटिक लोग दिल्ली के सीएम के साथ हैं।'

 

 

क्या कहा एचडी कुमारस्वामी ने?
कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी ने कहा, 'हम लोग दिल्ली के सीएम को अपना समर्थन दिखाने के लिए यहां पर हैं। हम मांग करते हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस मामले में हस्तक्षेप करें और मामले को सुलझाने के लिए उचित कदम उठाएं।'

 

 

क्या है मामला?
अपनी तीन मांगों को मनवाने के लिए पिछले 6 दिनों से दिल्ली के चीफ मिनिस्टर अरविंद केजरीवाल, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, मंत्री सत्येंद्र जैन और गोपाल राय LG के घर में वेटिंग रूम में धरने पर बैठे हैं। इन तीन मांगों में..

- पहली मांग दिल्ली में हड़ताल पर गए IAS अधिकारियों को काम पर लौटने का निर्देश दिया जाने को कहा गया है।

- दूसरी, काम रोकने वाले IAS अधिकारियों के खिलाफ सख्त एक्शन लें।

- और तीसरी, राशन की डोर स्टेप डिलीवरी की योजना को मंजूरी मिले।


इन तीनों मांगों को लेकर सोमवार शाम केजरीवाल उप राज्यपाल अनिल बैजल से मिलने उनके दफ्तर पहुंचे थे। केजरीवाल का कहना था कि एलजी ने उनकी तीनों ही मांगों को मानने से इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा था कि जब तक उपराज्यपाल मांगें नहीं मानेंगे, वह यहां से नहीं जाएंगे।