दैनिक भास्कर हिंदी: हार्दिक पटेल बोले- राहुल गांधी पंसद, लेकिन उन्हें अपना नेता नहीं मानता

February 24th, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। गुजरात विधानसभा चुनावों में कांग्रेस का खुलकर साथ देने वाले पाटीदार लीडर हार्दिक पटेल ने कहा है कि वो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पसंद तो करते हैं, लेकिन उन्हें अपना नेता नहीं मानते। इसके साथ ही उन्होंने प्रियंका गांधी के एक्टिव पॉलिटिक्स में आने की वकालत की है। हार्दिक ने ये बातें मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान कही। हार्दिक ने साथ ही अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने की बात भी कही है।


राहुल गांधी पसंद, लेकिन मेरे नेता नहीं

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शुक्रवार को मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान बोलते हुए पाटीदार लीडर हार्दिक पटेल ने कहा कि राहुल मेरे नेता नहीं है। हार्दिक ने कहा कि 'मैं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को व्यक्तिगत तौर पर पसंद तो करता हूं, लेकिन उन्हें अपना नेता नहीं मानता। क्योंकि वो मेरे नेता नहीं है।'

गुजरात में तीसरी ताकत बने हार्दिक करेंगे बीजेपी को सत्ता से बाहर ?

प्रियंका राजनीति में आएं, फायदा होगा

हार्दिक पटेल ने प्रियंका गांधी के राजनीति में आने की वकालत करते हुए कहा कि 'गांधी परिवार के पास राजनीति का अच्छा अनुभव है। ऐसे में अगर प्रियंका राजनीति में आती हैं, तो जनता को उस राजनीतिक अनुभव का फायदा होगा।' हार्दिक ने आगे कहा कि 'अगर अच्छे लोग राजनीति में नहीं आएंगे, तो राजनीति में खराब लोग ही अपनी मनमर्जी से काम करते रहेंगे।'

 

Image result for hardik patel and rahul gandhi



गुजरात में कांग्रेस की संख्या देखकर अच्छा लगा

इसके आगे गुजरात चुनाव के बारे में बोलते हुए हार्दिक ने कहा कि 'अगर विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने उनका अच्छे से समर्थन किया होता, तो गुजरात में बीजेपी की सीटों की संख्या 60 होती।' पाटीदार लीडर ने कहा कि 'गुजरात विधानसभा में कांग्रेस के प्रतिनिधियों की संख्या देखकर खुशी होती है और अब वो गुजरात के लोगों की आवाज पूरे विश्वास के साथ उठा रहे हैं।'

गुजरात: 182 विधायकों में से 102 नए चेहरे, कांग्रेस रही फायदे में

कौन हैं हार्दिक पटेल? 

दरअसल, जुलाई 2015 में गुजरात में पाटीदार आंदोलन की शुरुआत हुई थी। उस समय पाटीदार से जुड़े संगठनों ने पाटीदार कम्युनिटी को अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) में शामिल किए जाने की मांग को लेकर राज्य में एक आंदोलन चलाया था। वहीं युवाओं ने भी हार्दिक पटेल की अध्यक्षता में पाटीदार अनामत आंदोलन कमेटी का गठन किया और हार्दिक पटेल एक युवा नेता बनकर उभरे। हार्दिक पटेल का जन्म 20 जुलाई 1993 में गुजरात के चंदन नगरी में हुआ था। उनके पिता का नाम भरत पटेल और मां का नाम ऊषा पटेल है। हार्दिक ने 2010 में अहमदाबाद की सहजानंद यूनिवर्सिटी से बीकॉम की पढ़ाई की। इस दौरान उन्होंने स्टूडेंट यूनियन के जनरल सेक्रेटरी के पद के लिए चुनाव लड़ा और जीता। बताया जाता है कि 2015 में हार्दिक की बहन मोनिका पटेल राज्य सरकार की स्कॉलरशिप पाने में नाकाम हो गई थी, जिस कारण उन्होंने पाटीदार अनामत आंदोलन समिति का गठन किया और आंदोलन चलाया। हाल ही में गुजरात विधानसभा के दौरान भी हार्दिक तीसरी ताकत बनकर उभरे। बीजेपी ने राहुल गांधी और कांग्रेस से ज्यादा हार्दिक पटेल पर हमले किए। हार्दिक ने भी कांग्रेस को अपना समर्थन दिया।