दैनिक भास्कर हिंदी: ऐसे रची गई थी राजीव गांधी की हत्या की साजिश

August 20th, 2018

हाईलाइट

  • राजीव गांधी भारत के छठवें और सबसे युवा प्रधानमंत्री थे।
  • संचारक्रांति के जनक माने जाते हैं राजीव गांधी।
  • राजीव गांधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को हुआ था।
  • 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद राजीव गांधी प्रधानमंत्री बनें।
  • 21 मई 1991 में तमिलनाडु के श्रीपेरंबदुर में आत्मघाती बम ब्लास्ट में राजीव गांधी की मौत हो गई।
  • लिट्टे आतंकियों ने रची थी राजीव गांधी की हत्या की साजिश।
  • राजीव गांधी को 'भारत रत्न' से नवाजा जा चुका है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राजीव गांधी देश के योग्यतम प्रधानमंत्रियों में से एक थे। उन्हें संचारक्रांति का जनक माना जाता है। उनकी पहल पर ही सैम पित्रोदा के नेतृत्व में सेंटर फॉर रिसर्च एंड एनालिसिस ऑफ टेलीमैटिक्स (सीडाट) की स्थापना की गई थी। वर्तमान समय में देश में जो डिजिटल क्रांति दिखाई दे रही है, उसके पीछे राजीव गांधी का ही योगदान रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री रहते जिस तरह से श्रीलंका और मालदीव में हस्तक्षेप किया, वह उनके दृढ़निश्चय और  स्पष्ट राजनीतिक प्रतिबद्धताओं की ओर इशारा करता है। यही बाद में उनकी मौत की भी वजह बनी।

 







 



 


 



 



 



 

 

 

 


 

खबरें और भी हैं...