दैनिक भास्कर हिंदी: India Fights Corona: कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या और घटती ऑक्सीजन ने उड़ाई सरकारों की नींद

July 12th, 2020

हाईलाइट

  • डब्ल्यूएचओ के निर्देशडब्ल्यूएचओ के निर्देश
  • सरकार के लिए ग्रामीण क्षेत्र बने चुनौती

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के बीच अचानक देशभर में ऑक्सीजन सिलेंडरों की मांग बढ़ गई है। ऑक्सीजन सिलेंडरों के भंडारण पर केंद्र व राज्य सरकारों के ध्यान के बावजूद आपूर्ति प्रभावित हो रही है। करीब डेढ़ हजार मीट्रिक टन ऑक्सीजन का इस्तेमाल अस्पतालों में होता है। पांच बढ़ी और 600 छोटी कंपनियों के अलावा करीब 409 अस्पताल भी ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति को देशभर में 1050 टैंकर उपलब्ध हैं। वर्तमान में सभी सिलेंडर भारतीय कंपनियों से ही खरीदे जा रहे हैं।

ग्रामीण क्षेत्र बने चुनौती
ग्रामीण क्षेत्रों में ऑक्सीजन बैंक के अभाव में ज्यादातर अस्पताल सिलेंडर पर निर्भर हैं। शहरों की अपेक्षा यहां ऑक्सीजन की आपूर्ति बमुश्किल 15 से 20 फीसदी ही हो पाती है।

डब्ल्यूएचओ के निर्देशडब्ल्यूएचओ के निर्देश
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोविड-19 महामारी ज्यादा बदतर हो रही है। दुनिया भर में संक्रमण के मामले 1 करोड़ 25 लाख से ज्यादा हो गए हैं। जबकि मौत के आंकड़े करीब 5 लाख 59 हजार दर्ज किए गए हैं। डब्ल्यूएचओ ने भी चेताया है कि 20 फीसदी कोरोना संक्रमित मरीजों को आईसीयू और पांच फीसदी को वेंटिलेटर की जरूरत पड़ रही है। सभी देश ऑक्सीजन सिलेंडरों की व्यवस्था रिजर्व में रखें हैं। भारत में आॅ​क्सीजन की कमी है, सरकार इस कमी को जल्द दूर करे। WHO प्रमुख डॉक्टर टेड्रोस अधानोम घेब्रेयेसुस ने कहा कि कोरोना वायरस काबू में नहीं आ रहा है। टेड्रोस जिनेवा में कोविड-19 महामारी मूल्यांकन पर ब्रीफिंग कर रहे थे। उन्होंने खुलासा किया कि दुनिया भर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले पिछले छह हफ्तों में दोगुना हो गए हैं। उन्होंने अपनी संस्था का बचाव करते हुए कहा कि श्वसन संबंधी महामारी की आशंका जताई गई थी, लेकिन तमाम चेतावनियों के बावजूद दुनिया तैयार नहीं थी। हमारा तंत्र तैयार नहीं था। हमारे समुदाय तैयार नहीं थे और हमारा स्पलाई चेन टूट गया।

तमिलनाडू, बेंगलूरु
​तमिलनाडू, सरकारी मेडिकल कॉलेजों में ऑक्सीजन स्टोरेज क्षमता 10 गुना बढ़ाने पर काम कर रहा है। बेंगलूरु में स्वास्थ्य विभाग ने 8 हजार से ज्यादा बेड के लिए अतिरिक्त ऑक्सीजन भंडार है। कर्नाटक कांग्रेस के और दो विधायक कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए हैं, ऐसे में अब कुल मिलाकर तीन कर्मचारियों के वायरस की चपेट में आने के बाद शहर में पार्टी की राज्य इकाई के कार्यालय को बंद कर दिया गया है। एक अधिकारी ने शनिवार को इसकी जानकारी दी। पार्टी के प्रवक्ता एम.ए. सलीम ने आईएएनएस को बताया, कलबुर्गी जिले में जेवारगी विधानसभा क्षेत्र से हमारी पार्टी के विधायक अजय सिंह और हुबली-धारवाड़ पूर्व सीट से विधायक प्रसाद अब्बैया की कोरोना जांच रिपार्ट शुक्रवार को पॉजिटिव आई। कोविड लिए समर्पित एक अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।

गुजरात की व्यवस्था
अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में 40 हजार लीटर के टैंक उपलब्ध हैं। दक्षिण गुजरात में कोरोना को देखते हुए 13 हजार लीटर क्षमता का बड़ा टैंक स्थापित किया है। बता दें कि गुजरात में अब तक 40,069 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 28,147 लोग स्वस्थ हो चुके है, जबकि संक्रमण से 2022 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं 9900 लोग कोरोना संक्रमण के कारण अस्पताल में भर्ती हैं। 

मुंबई और दिल्ली
बीएमसी 2 लाख 8 हजार लीटर ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही है। दिल्ली सीएम ने होम क्वारंटाइन रोगियों को पल्स ऑक्सीमीटर देने को कहा है। मुंबई में कोरोना के कुल 91,745 केस हैं, जबकि 5,244 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं दिल्ली में अभी तक कोरोना से कुल 3334 व्यक्तियों की मृत्यु हो चुकी है। 24 घंटे के दौरान ही दिल्ली में 1781 नए कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। दिल्ली में अब कुल 1 लाख, 10 हजार 921 कोरोना पॉजिटिव मामले हो चुके हैं।

तुरंत सपोर्ट देने के लिए तैयारी
चेन्नई स्टेनली मेडिकल कॉलेज के नोडल अधिकारी कोवि​ड-19 वार्ड के डॉ. रवि ने बताया कि संदिग्ध मरीज वार्ड और कोरोना वार्ड के मरीजों में किसी की हालत गंभीर होने पर ऑक्सीजन और वेंटीलेटर सपोर्ट सिस्टम तैयार है।

देश में अब कोविड मामलों की कुल संख्या 8.2 लाख से ज्यादा
बता दें कि देश ने पिछले 24 घंटों में 27,114 नए कोरोनावायरस मामले और 519 मौतों का अब तक का सर्वाधिक वृद्धि का रिकॉर्ड दर्ज किया। स्वास्थ्य मंत्रालय के शनिवार को आए आंकड़ों में कहा गया कि अब देश में मामलों की कुल संख्या आठ लाख से अधिक हो गई है। केवल 4 दिन में देश में मामलों की संख्या में 1 लाख का चिंताजनक इजाफा हुआ है। आंकड़ों के अनुसार, कुल 8,20,916 मामलों में से अब तक 5,15,385 मरीज ठीक हुए हैं जबकि देश में 2,83,407 सक्रिय मामले हैं। अब कोविड -19 रोगियों के ठीक होने की संख्या और सक्रिय मामलों की संख्या का अंतर दो लाख तक बढ़ गया है। इसके साथ कोविड-19 रोगियों की रिकवरी दर 62.42 प्रतिशत हो गई है और मृत्यू दर घटकर 2.72 प्रतिशत रह गई है। हालांकि, इसके बाद भी भारत, अमेरिका और ब्राजील के बाद तीसरे नंबर पर दुनिया का सबसे अधिक प्रभावित देश बना हुआ है। पिछले 24 घंटों के दौरान 2,82,511 नमूनों का परीक्षण किया गया।