comScore

अग्नि-2 का सफल परीक्षण, रात में भी 2000 किमी दूर बैठे दुश्मन को मार सकेगा भारत

अग्नि-2 का सफल परीक्षण, रात में भी 2000 किमी दूर बैठे दुश्मन को मार सकेगा भारत

हाईलाइट

  • 3 हजार किलोमीटर तक बढ़ाई जा सकती है इसकी मारक क्षमता
  • यह मिसाइल 1000 किलो का वॉरहेड ले जाने में सक्षम है
  • अग्नि-2 मिसाइल को पहले ही सेना में शामिल किया जा चुका है

डिजिटल डेस्क, बालासोर। भारत ने शनिवार को पहली बार रात में मध्यम दूरी के बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-2 का सफल परीक्षण कर लिया है। जानकारी के अनुसार डीआरडीओ ने यह परीक्षण ओडिशा के बालासोर तट से किया। इस मिसाइल की मारक क्षमता 2000 हजार किलोमीटर है। यानी 2 हजार किमी दूर बैठे दुश्मन को यह मिसाइल पल भर में मार गिरा सकती है। इसकी मारक क्षमता को बढ़ाकर 3 हजार किलोमीटर तक किया जा सकता है।

डिफेंस रिसर्च एंड डेवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन डीआरडीओ ने मंगलवार को ही लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एलसीए) तेजस का रात में अरेस्टेड लैंडिंग का परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया था। डीआरडीओ ने दो महीने पहले ही दो सीट वाले एलसीए तेजस का गोवा के आईएनएस हंसा में पहली बार अरेस्टेड लैंडिंग कराई गई थी। एजेंसी ने बताया था कि यह टेक्स्टबुक लैंडिंग था। 

यह मिसाइल अग्नि सीरीज मिसाइल का हिस्सा है। इस सीरीज में 700 किमी तक जाने वाली अग्नि-1 और 3000 किमी तक जाने वाली अग्नि-3 मिसाइल भी शामिल हैं। इनके अलावा लंबी दूरी तक मार करने वाली अग्नि-4 और अग्नि-5 भी इस सीरीज का हिस्सा हैं।

अग्नि-2 मिसाइल की खासियत 

जानकारी अनुसार अग्नि-2 का परीक्षण पिछले साल भी किया गया था। इस मिसाइल को डीआरडीओ की एडवांस्ड सिस्टम्स लेबोरेटरी ने तैयार किया है। इस मिसाइल को इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत बनाया गया है। दो स्टेज की यह मिसाइल सॉलिड फ्यूल से चलेगी। इसकी लंबाई 20 मीटर है। यह मिसाइल 1000 किलो का वॉरहेड ले जाने में सक्षम है। इसमें सटीक निशाने पर पहुंचने के लिए हाई एक्युरेसी का नेवीगेशन सिस्टम लगा है। बता दें कि अग्नि-2 मिसाइल को पहले ही सेना में शामिल किया जा चुका है।
 

कमेंट करें
AVf7U