दैनिक भास्कर हिंदी: भारतीय रेलवे भ्रष्टाचार की शिकायतों के मामले में सबसे आगे : CVC रिपोर्ट

April 10th, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। एंटी करप्शन बॉडी सेंट्रल विजिलेंस कमिशन (CVC) की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल भ्रष्टाचार की सबसे अधिक शिकायतें रेलवे और सरकारी बैंकों के खिलाफ दर्ज कराई गई हैं। आयोग की तरफ से जारी की गई इस रिपोर्ट के अनुसार 2016 की तुलना में आयोग को मिलने वाली शिकायतों में 52% की गिरावट दर्ज की गई है। संसद में पेश की गई CVC की 2017 की वार्षिक रिपोर्ट में बताया गया है कि, 2017 में आयोग को कुल 23,609 शिकायतें मिली हैं, जो कि वर्ष 2011 के बाद के सालों से सबसे कम हैं।

वर्ष 2016 में शिकायतों का यह आंकड़ा 49,847 था। रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकतर शिकायतों के आरोप अस्पष्ट या ऐसे पाए गए जिनका सत्यापन नहीं किया जा सका। कमीशन को कई शिकायतें राज्य सरकार और अन्य संस्थान के सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ मिली हैं। इनमे से कुछ संस्थान ऐसे भी हैं जो आयोग के अधिकार क्षेत्र में नहीं आते हैं या प्रशासनिक प्रकृति के हैं।

छह महीनों से भी ज्यादा समय से लंबित हैं रेलवे की 1,037 शिकायतें
रिपोर्ट में कहा गया है कि आयोग में वर्ष 2015 में कुल 29,838 शिकायतें दर्ज कराई गई थीं। वहीं इससे पहले साल 2014 में 62,362 थी जबकि 2013 में यह 31,432 और 2012 में यह संख्या 37,039 रही। इसी तरह वर्ष 2011 में CVC को भ्रष्टाचार के खिलाफ मिलने वाली शिकायतों की संख्या 16,929 थी। आयोग में को सीधे तौर पर शिकायत करने के अलावा, करीब 60 हजार शिकायतें विभिन्न विभागों के प्रमुख विजिलेंस ऑफिर्स की भी दर्ज की गई हैं।

इन शिकायतों में  भ्रष्टाचार की सबसे ज्यादा 12,089 शिकायतें रेलवे कर्मचारियों के खिलाफ मिलीं। जिसमे से 9,575 शिकायतों का निपटारा किया जा चुका है, जबकि 2,514 शिकायतें अभी लंबित हैं। बता दें कि रेलवे कर्मचारियों के खिलाफ दर्ज की गई कुल शिकायतों में से 1,037 शिकायतें छह महीनों से भी ज्यादा समय से लंबित हैं। रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि 8018 शिकायतें विभिन्न बैंकों के अधिकारियों के खिलाफ मिली हैं।