comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

ISRO: सैटेलाइट लॉन्च होते ही PSLV ने दिखाई धरती की खूबसूरत तस्वीरें, पीएम मोदी ने दी बधाई

ISRO: सैटेलाइट लॉन्च होते ही PSLV ने दिखाई धरती की खूबसूरत तस्वीरें, पीएम मोदी ने दी बधाई

हाईलाइट

  • सभी मौसम की स्थिति में तस्वीरें ले सकता है ईओएस-01
  • इसरो के ​वैज्ञानिकों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बधाई दी

डिजिटल डेस्क, श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश)। भारत के पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हिकल (PSLV-सी49) रॉकेट ने अर्थ ऑब्जर्वेशन सैटेलाइट EOS-01 (Earth Observation Satellite EOS-01) और 9 विदेशी उपग्रहों को लेकर शनिवार को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से सफल उड़ान भरी। 10 उपग्रहों के साथ रॉकेट ने भारतीय समयानुसार दोपहर 3.02 बजे सतीश धवन स्पेस सेंटर (एसडीएससी) के पहले लॉन्च पैड से उड़ान भरी। रॉकेट लॉन्च होने के बाद जब भारतीय सैटेलाइट EOS-01 पीएसएलवी रॉकेट से अलग हुआ तो रॉकेट में लगे ऑनबोर्ड कैमरे ने सैटेलाइट्स और धरती की खूबसूरत तस्वीरें लीं।

ISRO EOS-01 Satellite PSLV-C49 Rocket

रॉकेट लॉन्च होने के बाद PSLV-C49 के चौथे स्टेज के सेपरेशन के बाद EOS-01 अलग हुआ। उसकी तस्वीरें दिखाई पड़ीं। भारतीय सैटेलाइट EOS-01 (तस्वीर में) के कक्षा में स्थापित होने के बाद ग्राहक देशों के सैटेलाइट्स को उनकी निर्धारित कक्षा में स्थापित किया गया. एक के बाद एक करके सारे सैटेलाइट्स उनके तय ऑर्बिट में स्थापित कर दिए गए हैं।

ISRO EOS-01 Satellite PSLV-C49 Rocket

ISRO के अनुसार 630 किलोग्राम वजनी EOS-01, एक पृथ्वी अवलोकन उपग्रह है, जिसका उद्देश्य कृषि, वानिकी और आपदा प्रबंधन में सहायता करना है। बाकी नौ विदेशी उपग्रहों में लिथुआनिया से (1-आर2, टेक्नॉलजी डेमनस्ट्रेटर), लक्समबर्ग से (क्लेओस स्पेस का 4 मैरिटाइम एप्लीकेशन सैटेलाइट) और अमेरिका से (4-लीमर मल्टी मिशन रिमोट सेंसिंग सैटेलाइट) हैं। इस बार ISRO ने PSLV रॉकेट के लिए डीएल वैरिएंट का इस्तेमाल किया जिसमें सिर्फ दो स्ट्रैप-बूस्टर मोटर्स हैं। स रॉकेट वैरिएंट का इस्तेमाल पहली बार 24 जनवरी, 2019 को माइक्रोसेट आर उपग्रह को कक्षा में रखने के लिए किया गया था।

Image

सभी मौसम की स्थिति में तस्वीरें ले सकता है EOS-01
बता दें कि 44.5 मीटर लंबा PSLV-C49 का प्राथमिक पैसेंजर सिंथेटिक एपर्चर रडार (SAR) से लैस भारतीय रडार इमेजिंग उपग्रह EOS-01 है जो सभी मौसम की स्थिति में तस्वीरें ले सकता है। उपग्रह दिन और रात में तस्वीरें ले सकता है और निगरानी के साथ-साथ सिविलियन गतिविधियों के लिए उपयोगी होगा।

ISRO EOS-01 Satellite PSLV-C49 Rocket

ISRO के ​वैज्ञानिकों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बधाई दी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस सफल लॉन्चिंग के लिए ISRO को बधाई दी है। मोदी ने एक ट्वीट में लिखा कि मैं ISRO और भारत के अंतरिक्ष उद्योग को PSLV-C49/EOS-01 अभियान की सफल लॉन्चिंग के लिए बधाई देता हूं। हमारे वैज्ञानिकों ने समय सीमा पूरी करने के लिए कई बाधाओं को पार किया।

ISRO ने कहा है कि EOS-01 कृषि, वानिकी और आपदा प्रबंधन सहायता में प्रयोग किए जाने वाला एक पृथ्वी अवलोकन उपग्रह है। संगठन ने बताया है कि दूसरे देशों के उपग्रहों को अंतरिक्ष विभाग के न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (NSIL) के साथ वाणिज्यिक समझौते के तहत लॉन्च किया गया है।

ताजा जानकारी के अनुसार EOS-01 सफलतापूर्वक PSLV-सी49 के चौथे चरण से अलग होकर ऑर्बिट में पहुंच गया है। अन्य नौ विदेशी कस्टमर सैटेलाइट भी अलग होकर अपने निर्धारित ऑर्बिट में पहुंचा दिए गए हैं। PSLV-C49/EOS-01 अभियान की उलटी गिनती शुक्रवार दोपहर 1.02 बजे शुरू हुई थी। 

बता दें कि कोरोना वायरस महामारी संकट के बीच ISRO का यह इस साल का पहला अभियान है। सैटेलाइट लिफ्ट ऑफ पहले शनिवार दोपहर 3 बजकर दो मिनट तय था। लेकिन, वाहन के मार्ग में कुछ अवरोध आने की वजह से इसे 10 मिनट की देरी से प्रक्षेपित करना पड़ा।

कमेंट करें
JgxWe
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।