comScore

केरल: इडुक्की जिले के राजामाला में भूस्खलन, नौ लोगों की मौत, दर्जनों लापता, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

केरल: इडुक्की जिले के राजामाला में भूस्खलन, नौ लोगों की मौत, दर्जनों लापता, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

हाईलाइट

  • केरल में भारी बारिश और भूस्खलन का कहर
  • इडुक्की के राजमाला में भूस्खलन से 9 की मौत

डिजिटल डेस्क, तिरुवनंतपुरम। केरल में भारी बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। पिछले चार दिनों से जारी भारी बारिश के कारण शुक्रवार को इडुक्की जिले के राजामाला में भूस्खलन हो गया। जिसमें अबतक नौ लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 10 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है। करीब 57 लोगों के लापता होने की आशंका जताई जा रही है। फिलहाल मोडिकल टीम, पुलिस और NDRF की टीमों को तैनात कर दिया गया है। राहत बचाव कार्य जारी है। वहीं राज्य के सीएम ने भारतीय वायु सेना से भी मदद मांगी है।

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा, इडुक्की के राजमाला में भूस्खलन पीड़ितों को बचाने के लिए NDRF की टीमों को तैनात किया गया है। पुलिस, फायर, वन और राजस्व अधिकारियों को भी बचाव अभियान करने का निर्देश दिया गया है। केरल के सीएम ने बचाव अभियान के लिए भारतीय वायु सेना से सहायता का अनुरोध भी किया है।

सीएम के मुताबिक, बचाव कार्य में मदद के लिए फायर ब्रिगेड की 50 सदस्यों की एक स्पेशल टास्क फोर्स इलाके में तैनात की गई है। इडुक्की के एसपी ने बताया, राजमाला में भूस्खलन ऐसे स्थान पर हुआ है जहां चाय बागान में काम करने वाले श्रमिक रहते हैं। 

जानकारी के मुताबिक, भूस्खलन वाली जगह पर चाय के बागान में काम करने वाले मजदूर शिविर बनाकर रहते थे। मजदूरों की लगभग एक बड़ी कॉलोनी सी बनी हुई थी। भूस्खलन के बाद मलबा शेल्टर हाउसेस के ऊपर गिरा। बताया जा रहा है कि अधिकांश मजदूर तमिलनाडु के रहने वाले थे। यहां रहकर मजदूरी करते थे।

इसी जिले के निवासी राज्य के ऊर्जा मंत्री एम.एम. मणि ने कहा, भूस्खलन वाली जगह एक पहाड़ी के शीर्ष पर है। स्थानीय विधायक भी मौके पहुंच गए हैं। सभी आपातकालीन सेवाओं को वहां लगा दिया गया है। केरल के राजस्व मंत्री ई चंद्रशेखरन ने बताया, चार श्रमिक शिविरों में लगभग 82 लोग रह रहे थे। अभी तक ये पता नहीं लग पाया है कि, भूस्खलन के समय कितने लोग वहां मौजूद थे।  

केरल के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, एक मोबाइल मेडिकल टीम और 15 ऐंबुलेंस को घटना स्थल पर भेजा दिया गया है। जरूरत पड़ने पर और भी मेडिकल टीमें भेजी जाएंगी। अस्पतालों को भी अलर्ट कर रहने के आदेश दिए गए हैं।

बारिश और भूस्खलन ने वायनाड के कुरिचियारमाला क्षेत्र में लोगों के सामान्य जीवन को बाधित कर दिया। क्षेत्र में अब तक दो घरों को नुकसान पहुंचा है।

मौसम विभाग ने एर्नाकुलम, इडुक्की, त्रिशूर, पलक्कड़, मलप्पुरम, कोझीकोड, वायनाड, कन्नूर और कासरगोड सहित केरल के नौ जिलों में 9 अगस्त तक के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं इडुक्की, मलप्पुरम और वायनाड में 11 अगस्त तक के लिए रेड अलर्ट भी जारी है। 


 

कमेंट करें
f2hgm