दैनिक भास्कर हिंदी: एडवाइजरी के बाद J&K में हड़कंप, महबूबा बोली- ऐसी घबराहट कभी नहीं देखी

August 3rd, 2019

हाईलाइट

  • सरकार की एडवाइजरी जारी करने के बाद J&K में हड़कंप मचा हुआ है
  • इस बीच, महबूबा मुफ्ती ने फारूक अब्दुल्ला से मुलाकात की
  • महबूबा मुफ्ती ने कहा, मैंने ऐसी घबराहट कभी नहीं देखी

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। अमरनाथ यात्रियों और टूरिस्ट को तुरंत जम्मू-कश्मीर छोड़ने संबंधी एडवाइजरी जारी करने के बाद राज्य में हड़कंप मचा हुआ है। इस बीच पीडीपी प्रमुख और राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती रात में नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला से मिलने पहुंचीं। फारूक के बाद वह सज्जाद लोन से मिलेंगी।

पीडीपी नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती सरकार की ओर से जारी की गई एडवाइजरी को लेकर कहा कि इसने लोगों में भ्रम पैदा कर दिया है। उन्होंने कहा, हालिया घटनाक्रम के कारण यहां भय का माहौल है। मैंने ऐसी घबराहट कभी नहीं देखी। एक तरफ, गवर्नर साहब कहते हैं कि स्थिति सामान्य है। दूसरी तरफ, अतिरिक्त बलों की तैनाती की जा रही है।

उन्होंने कहा, पीएम जम्मू-कश्मीर के लोगों का दिल जीतने की बात करते हैं। फिर, इस तरह की अफवाहें क्यों फैल रही हैं। अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को वापस भेजा जा रहा है। लेकिन, आप यह नहीं सोच रहे हैं कि जम्मू और लद्दाख के लोग कहां जाएंगे?

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, 'सुरक्षा बलों का भारी जमावड़ा, अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों के लिए सरकार की तरफ से जारी की गई जल्द से जल्द वापस लौटने की एडवाइजरी ने भय का माहौल पैदा कर दिया है। हम भारत सरकार से आग्रह करते हैं कि वह ऐसा कोई भी निर्णय न लें, जो गहरे संकट का कारण बने।'

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा, 'अगली बार जब भी कोई जम्मू-कश्मीर में पूर्व की निर्वाचित सरकार पर कुप्रबंधन का आरोप लगाए, तो कृपया याद रखें कि हमने कभी ऐसी स्थिति को विकसित नहीं होने दिया, जहां अमरनाथ यात्रा को कैंसिल करना पड़ा हो। पर्यटकों को जल्द से जल्द घाटी छोड़ने के लिए कहा गया हो। सड़को पर भय और घबराहट का महौल हो।

उन्होंने कहा, 'गुलमर्ग में होटलों में रहने वाले दोस्तों को होटल छोड़ने के लिए मजबूर किया जा रहा है। राज्य परिवहन की बसों को पहलगाम और गुलमर्ग से लोगों को बाहर निकालने के लिए लगाया गया है। अगर (अमरनाथ) यात्रा के लिए खतरा है तो गुलमर्ग को क्यों खाली किया जा रहा है?

जम्मू और कश्मीर सरकार की ओर से शुक्रवार दोपहर जारी की गई एडवाइजरी में कहा गया है: 'अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमलों के इनपुट मिले है, खासकर आतंककी अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाना चाहते हैं। ऐसे में यात्रियों और पर्यटकों की सुरक्षा को देखते हुए सलाह दी जाती है कि वे अपनी यात्रा को तुरंत खत्म करें और जितनी जल्दी हो सके घाटी को छोड़ दें।

इससे पहले लेफ्टिनेंट जनरल केजीएस ढिल्लन ने श्रीनगर में बताया था कि अमरनाथ यात्रा के रुट पर स्नाइपर राइफल मिली है। ये एक एम-24 स्नाइपर राइफल है जो कि एक टेलीस्कोप के साथ बरामद की गई है।