दैनिक भास्कर हिंदी: मप्र उच्च शिक्षा में सुधार के लिए सफल प्रयोगों को अपनाएगा

September 18th, 2019

भोपाल, 18 सितंबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश की महाविद्यालयीन शिक्षा में सुधार लाने के प्रयास जारी हैं। इसी क्रम में राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी इन दिनों ब्रिटेन गए हुए हैं। वह वहां विभिन्न देशों के शिक्षा मॉडल का अध्ययन कर रहे हैं। इसके बाद संबंधित देशों के सफल प्रयोगों को अपनाने के साथ राज्य के पाठ्यक्रमों को यूरोपीय फ्रेमवर्क ऑफ रिफ्रेंस सीईएफआर के अनुरूप तैयार किया जा सकता है।

सरकार की तरफ से जारी बयान के अनुसार, राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री पटवारी 16 से 19 सितंबर तक ब्रिटेन के प्रवास पर हैं। वह वहां कैम्ब्रिज एसेसमेंट समिट ऑफ एजुकेशन - एंटीसिपेटिंग द फ्यूचर ऑफ एसेसमेंट कॉन्फ्रेंस में हिस्सा ले रहे हैं। बुधवार को पटवारी की संयुक्त अरब के शिक्षा मंत्रालय के करीकुलम विभाग की प्रमुख हेले हलुज और लुईस हाल से चर्चा हुई। इस दौरान तय हुआ कि दोनों देशों के बीच स्टूडेंट एक्सचेंज कार्यक्रम पर अमल किया जाएगा।

बयान के अनुसार, इससे पहले मंत्री पटवारी की कैंब्रिज विश्वविद्यालय की सीईओ फ्रांसिस्का वुडवर्ड से मुलाकात हुई। इस दौरान राज्य में उच्च शिक्षा में तकनीक का दोहन तथा कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय और प्रदेश के उच्च शिक्षा विभाग के समन्वित प्रयास से प्रौद्योगिकीय विकास तथा आर्टिफिशियल इंटेलिजेन्स के माध्यम से शिक्षण पद्घति को बेहतर बनाने पर चर्चा की गई।

बयान के अनुसार, पटवारी ने कहा कि वर्तमान में हर क्षेत्र में आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। हमें शिक्षकों को आधुनिक शिक्षण तकनीकों से लैस करना है। इसके लिए अब राज्य में आर्टिफिशियल इंटेलिजेन्स के माध्यम से शिक्षा देने का प्रयास किया जाएगा। राज्य की 1500 स्मार्ट क्लास में आर्टिफिशियल इंटेलिजेन्स के माध्यम से शिक्षा दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि राज्य में उच्च शिक्षा में सुधार के साथ प्रदेश के युवाओं में कम्युनिकेशन स्किल विकसित करने में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय की मदद ली जाएगी। इसके लिए ऐसे पाठ्यक्रम तैयार किए जाएंगे, जिससे साहित्यिक अंग्रेजी भाषा के ज्ञान के अलावा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विद्यार्थियों को एक्सपोजर भी मिले। पाठ्यक्रमों को यूरोपीय फ्रेमवर्क ऑफ रिफ्रेंस सीईएफआर के अनुरूप बनाएं।