comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद की कमर तोड़कर ही रहेंगे- पीएम मोदी

February 04th, 2019 13:55 IST

हाईलाइट

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को जम्मू-कश्मीर के लेह पहुंचे।
  • पीएम मोदी ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक करके हम पूरी दुनिया में लोहा मनवा चुका हैं।
  • पीएम ने कहा कि हम जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद की कमर तोड़कर ही रहेंगे।

डिजिटल डेस्क, लेह। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को जम्मू-कश्मीर के लेह पहुंचे। इस दौरान पीएम मोदी ने एक कार्यक्रम में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक करके हम पूरी दुनिया को बता चुके हैं कि अब भारत की नई नीति और नई रीति क्या है। पीएम ने कहा कि हम जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद की कमर तोड़कर ही रहेंगे। पीएम मोदी ने इसके साथ ही डिजिटल क्रांति, इकोनॉमी और टूरिज्म एंड एजुकेशन पर बातचीत की।

आतंक को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा
पीएम मोदी ने कहा, 'आज जब मैं श्रीनगर आया हूं तब मैं शहीद नज़ीर अहमद वानी सहित उन सैकड़ों वीरों को श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं, जिन्होंने शांति के लिए, राष्ट्र की रक्षा के लिए बलिदान दिया है। शहीद नज़ीर अहमद वानी को उनके इसी अदम्य साहस और वीरता के लिए अशोक चक्र से सम्मानित किया गया है। शहीद वानी जैसे युवा ही, जम्मू कश्मीर और देश के हर नौजवान को देश के लिए जीने और देश के लिए समर्पित होने का रास्ता दिखाते हैं। मैं आज आपको, जम्मू-कश्मीर के नौजवानों को और पूरे देश को ये विश्वास दिलाता हूं कि हर आतंक को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।' 

पीएम मोदी ने शिक्षा पर बात करते हुए कहा, 'हम ऐसी शिक्षा प्रणाली के लिए काम रहे हैं, जहां देश के युवा शिक्षा प्राप्त करने के लिए विदेशों में न जाएं, बल्कि विदेश के युवा शिक्षा ग्रहण करने के लिए भारत आएं। बेहतर शिक्षा के लिए हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं और दुनिया में बेहतर शिक्षा के जो मानदंड बने हैं, हम उसे प्राप्त करने की दिशा में काम कर रहे हैं। यूनाइटेड नेशन समेत कई संस्थाओं के अनुसार विश्व में भारत उन देशों में पहले नंबर पर है, जो गरीबी से बाहर आने पर तेज गति से आगे बढ़ रहा है। आज श्रीनगर से राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान यानि रूसा के दूसरे फेज़ से जुड़े  प्रोजेक्ट्स की शुरुआत की गई है।'

पीएम ने कहा, 'दो दिन पहले आए बजट ने सबका साथ, सबका विकास के संकल्प को और मजबूत किया है। अब देश के 12 करोड़ से अधिक छोटे किसान परिवारों को हर वर्ष 6,000 रुपए सीधे बैंक खाते में भेजे जाएंगे। जनधन योजना से बैंक खाते खोलने का मजाक बनाने वाले, अब इस योजना का फायदा समझेंगे। पीएम किसान सम्मान नीधि योजना से 75,000 करोड़ रुपए छोटे किसानों के खाते में सीधे पहुंचने वाले हैं। देश में आज तक किसानों की समस्याओं को जड़ से समाप्त करने के प्रयास नहीं हुए। कर्जमाफी से किसानों का कर्ज कभी खत्म नहीं होता, बल्कि बिचौलियों की जेब मोटी होती है।'

पीएम ने टूरिज्म पर कहा, 'हमारे देश में पर्यटन की बहुत संभावनाएं हैं। पिछले कुछ समय से देश में पर्यटन आगे बढ़ा है। इस बार देश में एक करोड़ विदेशी पर्यटन आए हैं। पीएम ने डिजिटल इंडिया पर कहा कि आज देश में 3 लाख से अधिक क़ॉमन सर्विस सेंटर ग्रामीणों को डिजिटल सेवाएं तो दे ही रहे हैं साथ ही लाखों युवाओं को रोजगार से भी जोड़ रहे हैं । स्कूलों में बन रही अटल टिंकरिंग लैब, अटल इन्क्युबेशन सेंटर, जय जवान-जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान का हमारा संकल्प आज सशक्त हो रहा है। साढ़े चार साल पहले सारे बड़े कार्यक्रम दिल्ली से शुरू होते थे, लेकिन हमनें उस कार्य संस्कृति को बदला है।' 

पीएम ने कहा कि हमारे देश में संसाधनों की कोई कमीं नहीं है, पहले देश के प्रधानमंत्री ने कहा था दिल्ली से एक रुपया निकलता है और 15 पैसा पहुंचता है। अब फायदा ये है कि दिल्ली से एक रुपया निकलता है और पूरा 100 पैसा नीचे तक पहुंचता है। जम्मू कश्मीर पिछले साल सितंबर में तय समय से पहले खुले में शौच से मुक्त हो गया है। हमारी सरकार में तय समय सीमा के अंदर लक्ष्य को पाने का प्रयास किया जाता है। सड़क, बिजली, शिक्षा और स्वास्थ्य,  सभी मूलभूत सुविधाओं के निर्माण में देश तेज़ी से आगे बढ़ रहा है।

पीएम मोदी ने कहा, 'कश्मीरी विस्थापितों को रोज़गार के अवसर देने के लिए भी सरकार प्रतिबद्ध है। वर्ष 2015 में घोषित पीएम डवलपमेंट पैकेज के तहत, राज्य प्रशासन ने 3 हज़ार नियुक्तियों की स्वीकृति दे दी है। जिन कश्मीरी पंडित बहन-भाइयों को यहां से अपना घर, अपनी ज़मीन, अपने पूर्वजों की यादों को छोड़कर जाना पड़ा है, उनको पूरे सम्मान से यहां बसाया जाए। प्रधानमंत्री विकास पैकेज के जरिए राज्य प्रशासन ने वेस्सू और शेखपोरा में ट्रांजिट आवास बनाने शुरु कर दिए हैं।'

कमेंट करें
HZyrO
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।